Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Saturday, September 30, 2017

मनोविज्ञान चेतना के विकास के रूप में

मनोविज्ञान चेतना के विकास के रूप में 
  • अनेक अनुसंधानों के द्वारा जब मनोवैज्ञानिकों को यह बात स्पष्ट हो गई कि मस्तिष्क एक सम्पूर्ण है और इसे खण्ड़ों में विभाजित नहीं किया जा सकता, तब मनोवैज्ञानिकों ने माना कि चेतना नामक तत्व के द्वारा मस्तिष्क क्रियाशील होता है और व्यक्ति के व्यवहार को संचालित करता है।
  • मनोविज्ञान को चेतना का विज्ञान मानने वाले प्रमुख दार्शनिक- विलियम वुण्ट, विलियम जेम्स, जेम्स सल्ली थे। इस प्रकार 19वीं शताब्दी में मनोविज्ञान चेतना के रूप में विकसित हुआ। (18वीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध भी)
  • 1879 ई. में विलियम वुण्ट ने जर्मनी के लिपजिंग विश्वविद्यालय के अन्तर्गत प्रथम मनोवैज्ञानिक प्रयोगशाला की स्थापना की। इसी कारण विलियम वुण्ट को प्रयोगात्मक मनोविज्ञान का जनक कहा जाता है।
  • लिपजिंग विश्वविद्यालय का वर्तमान नाम कार्लमार्क्स विश्वविद्यालय है।
  • वुण्ट के द्वारा स्थापित प्रथम प्रयोगशाला का नाम साइकोलॉजिकल इन्स्टीट्यूट था।

विलियम मैक्सीमिलयन वुण्ट

  • प्रथम प्रयोगशाला जो वुण्ट द्वारा स्थापित की गई थी, उसमें अध्ययन का विषय मन था।
  • विलियम वुण्ट ने अपने अध्ययनों के आधार पर बताया कि मन का निर्माण तीन तत्वों से मिलकर होता है-
  • अ. संवेदना, ब. भाव और स. प्रतिमा
  • ये तीनों तत्व मिलकर ही मन को क्रियाशील करते है। इसी आधार पर वुण्ट ने मनोविज्ञान को चेतना का विज्ञान कहा।
  • मनोविज्ञान का जनक विलियम जेम्स को कहा जाता है क्योंकि 1875 में विलियम जेम्स के द्वारा अमेरिका के अन्तर्गत स्नातक छात्रों को एक विषय का शीर्षक ‘मनोविज्ञान और शरीर विज्ञान में सम्बन्ध’ समझाने के लिए अनौपचारिक प्रयोगशाला की स्थापना की थी।
  • इसी समय सिग्मण्ड फ्रायड़ (वियना) भी मन के स्वरूप पर अध्ययन कर रहे थे। उन्होंने बताया कि व्यक्ति के व्यवहार को संचालित करने में केवल चेतन म नही कार्य नहीं करता है।
  • व्यक्ति के द्वारा किये जाने वाले व्यवहार में अनेक ऐसे तथ्य पाये जाते है। जिसके आधार पर यह सिद्ध होता है कि चेतन मन के अलावा अवचेतन और अचेतन मन के महत्वपूर्ण पहलू होते है।

मन के स्थलाकृति पक्ष

अ. चेतन मन  Conscious-

  • मन के जिस भाग का सम्बन्ध तात्कालिक ज्ञान के साथ में होता है उसे चेतन मन कहा जाता है।
  • चेतन मन से प्रत्यक्ष ज्ञान का सम्बन्ध होता है और चेतना में निरन्तरता का गुण पाया जाता है।

ब. अवचेतन Sub Conscious-

  • इसे मन का द्वितीय भाग माना गया है। इस भाग में रहने वाली सामग्री को प्रयत्न करके वापस चेतन स्तर पर लाया जा सकता है।
  • व्यक्ति के सीखने अथवा आदतों के निर्माण का सम्बन्ध मन के इस भाग से होता है।

स. अचेतन मन -

  • मन का यह भाग सबसे विस्तृत (9/10) अथवा बड़ा होता है। इस क्षेत्र में रहने वाली विषय-सामग्री को प्रयत्न करके भी चेतना के स्तर पर नहीं लाया जा सकता है।
  • व्यक्ति के अधिकांश व्यवहारों का नियमन मन के इसी भाग के द्वारा सम्पादित होता है। इस भाग में व्यक्ति की दमित ईच्छाएं, विचार अथवा संवेग निवास करते हैं।
  • इस भाग में रहने वाली सामग्री चेतन मन के निष्क्रिय होने पर या तो स्वतः ही प्रकट होती है या शब्द-साहचर्य विधि, सम्मोहन विधि आदि विधियों द्वारा चेतन के स्तर पर लायी जा सकती हैं।

अचेतन मन की विशेषताएं/कार्यक्षेत्र-

  • 1. स्वप्न का आना
  • 2. नींद में चलना 
  • 3. नींद में बड़बड़ाना
  • 4. पहचानने की भूल
  • 5. लिखने में होने वाली भूल
  • 6. नामों का भूल जाना
  • 7. कामुक ईच्छाओं का निवास स्थान
  • 8. ईड़ प्रवत्ति का मूल स्थान (इदम्-पाशविक प्रवृत्ति)
  • 9. सुध-बुध के नियम से निर्देशित 
  • 10. अतार्किक
  • 11. शैशव स्वरूप 
  • 12. मानसिक रूप सेे विक्षिप्त हो जाना
  • 13. सामान्य व्यवहार का अचानक असामान्य हो जाना
मन का गत्यात्मक पक्ष-

अ. इड़ Id -

  • 1. ईड़ का स्थान अचेतन मन में होता है
  • 2. यह एक पाशविक प्रवृत्ति है
  • 3. एक शिशु अपने जीवन के प्रारम्भ में इड़ स्तर का ही होता हैं।
  • 4. यह सुख के सिद्धान्त पर आधारित होती है।
  • 5. यह निरर्थक अतार्किक होती है
  • 6. इड़ में ही समस्त मूल प्रवृत्तियों का वास पाया जाता है।
  • 7. यह सामाजिक मान्यताओं व परम्पराओं का विरोध करती है।
  • 8. इसमें नैतिकता का अभाव पाया जाता है
  • 9. इड़ की प्रवृत्ति को दिशा देने का कार्य ईगो करता है।

ब. इगो Ego -

  • 1. ईड़ व सुपर ईगो के मध्य यह मध्यस्थता का कार्य करता है।
  • 2. यह यथार्थ के सिद्धान्त पर आधारित होता है।
  • 3. समें तार्किक गुण पाया जाता है
  • 4. स्वरक्षा का भाव पाया जाता है
  • 5. वास्तविकता को समझने का प्रयास करता है
  • 6. नैतिक परम्पराओं एवं मान्यताओं को कुछ सीमा तक स्वीकार भी करता है।

स. सुपर ईगो - 

  • 1. इसका स्थान चेतन मन में होता है।
  • 2. यह पूर्णतः नैतिक नियमों, परम्पराओं एवं आदर्शों पर आधारित होता है।
  • 3. यह देवीय सिद्धांत पर कार्य करता है
  • 4. इसमें तार्किक गुण पाया जाता है
  • 5. यह स्थिरता के गुण को धारण करता है
  • 6. मानवीय गुणों से ऊपर होता है।

यह भी पढ़ें - द्वितीय श्रेणी अध्यापक के लिए प्रमुख बिंदु पढ़ने के लिए क्लिक करे -

मुगल कालीन चित्रकला

प्राचीन भारत का इतिहास 

प्राचीन भारत का इतिहास        प्राचीन भारत के आधुनिक इतिहासकार

भारतीय इतिहास को जानने के स्त्रोत          मौर्य साम्राज्य

शुंग राजवंश                    सातवाहन राजवंश 

 गुप्तवंश            चालुक्य राजवंश                         चोल राजवंश

पल्लव कला एवं साहित्य    राष्ट्रकूट राजवंश    त्रि-पक्षीय संघर्ष तथा पाल वंश    

  कश्मीर का इतिहास  भारतीय स्थापत्य एवं मूर्तिकला          चन्देल और परमार


मध्यकालीन भारत का इतिहास 

दिल्ली सल्तनत  सल्तनत काल - स्थापत्य एवं वास्तुकला   

दक्षिण भारत: विजयनगर और बहमनी साम्राज्य  शेरशाह सूरी   मुगलकाल 

मुगलकाल - अकबर            दीन-ए-इलाही         मुगलकालीन स्थापत्य कला 

मुगलकालीन चित्रकला     मराठा साम्राज्य : शिवाजी 


आधुनिक भारत का इतिहास 

आंग्ल-मैसूर युद्ध    राजा राममोहन राय और ब्रह्मसमाज    गवर्नर जनरल 

लार्ड हेस्टिंग्स    भारत में समाचार-पत्रों का विकास    मुस्लिम सुधार आन्दोलन

बंगाल विभाजन और स्वदेशी आन्दोलन      होमरूल लीग आन्दोलन

क्रांतिकारी राष्ट्रवाद    महात्मा गाँधी       असहयोग आन्दोलन               साइमन कमीशन

नेहरू रिपोर्ट                 सविनय अवज्ञा आन्दोलन                   गोलमेज सम्मेलन

भारत छोड़ो आन्दोलन                           सुभाष चन्द्र बोस और आजाद हिन्द फौज


विश्व का इतिहास 

धर्म सुधार आन्दोलन           इस्लाम का उदय               नेपोलियन बोनापार्ट 

जर्मनी का एकीकरण         फासीवाद

द्वितीय श्रेणी अध्यापक के लिए हिंदी विषय के प्रमुख बिंदु पढ़ने के लिए क्लिक करे -


  1. प्रत्यय             छंद
  2. संधि-विच्छेद          ज्ञानपीठ पुरस्कार
  3. अलंकार            उपसर्ग 
  4. समास       विलोम शब्द
  5. क्रिया               शब्द शक्तियां

No comments:

Post a Comment

Loading...