धर्म के ठेकेदार भड़काना जानते हैं, पर दौलत लुटाने की बात हो तो भीगी बिल्ली बन जाते हैं, क्यों