बुद्धि का मापन और बुद्धिलब्धि




  • सबसे पहला बुद्धि परीक्षण 1905 ई. मे अल्फ्रेड बिने ने साइमन की मदद से फ्रांस में बनाया।
  • इस बुद्धि परीक्षण में 30 प्रश्न थे जोकि 3 से 14 वर्ष तक के बालकों के लिए उपयुक्त थे।
  • यह एक शाब्दिक बुद्धि परीक्षण था।
  • यह एक व्यक्तिगत बुद्धि परीक्षण था।
  • इस बुद्धि परीक्षण का नाम बिने-साइमन बुद्धि परीक्षण था।
  • सर्वप्रथम इस परीक्षण में 1908 में संशोधन हुआ और इस संशोधन में मानसिक आयु की अवधारणा को बुद्धि परीक्षण में शामिल किया गया।
  • इस परीक्षण में दूसरा संशोधन 1911 में हुआ और प्रश्नों की संख्या बढ़ाकर 54 कर दी गई।
  • 1916 में अमरीका की स्टैनफोर्ड वि वि में प्रोफेसर टर्मन की अध्यक्षता वाली कमेटी ने इस परीक्षण में संशोधन किया और प्रश्नों की संख्या 90 कर दी गई।
  • इस परीक्षण  में 1911 के परीक्षण से मात्र 19 प्रश्न शामिल किये गये जो कि इस सम्पूर्ण प्रश्नों का 1/3 हिस्सा था।
  • 1916 में इस परीक्षण का नाम बदलकर स्टैनफोर्ड-बिने बुद्धि परीक्षण या टरमन का बुद्धि परीक्षण कर दिया गया।
  • अमेरिका में बिने साइमन परीक्षण का प्रचार गोहार्ड ने किया। 
  • टरमन ने मैरिल के साथ मिलकर एक संशोधन और किया जिसका नाम ‘न्यू स्टैनफोर्ड रिवीजन’ रखा गया।
  • इंग्लैण्ड में इस बुद्धि परीक्षा पर सिरिल बर्ट ने संशोधन किया जो ‘लन्दन रिवीजन’ कहलाता है। इस संशोधन में 3 से 16 वर्ष की आयु वाले बालकों के लिए कुल 65 प्रश्न है।
  • सबसे पहला सामूहिक बुद्धि परीक्षण 1917 में अमेरिका में बनाया गया। यह सर्वप्रथम अमेरिका की सेना पर प्रयोग में लाया गया। इसमें दो परीक्षण थे।
  • 1. सैनिक एल्फा परीक्षण - शाब्दिक परीक्षण
  • 2. सैनिक बीटा परीक्षण - अशाब्दिक परीक्षण
  • भारत में पहला बुद्धि परीक्षण 1922 में एफ.जी. कॉलेज लाहौर में डॉ. सी.एच. राइस के द्वारा बनाया गया।
  • इस परीक्षण में कुल 35 प्रश्न थे। ये प्रश्न 3 से 15 वर्ष तक के बच्चों के लिए उपयुक्त थे।
  • यह परीक्षण शाब्दिक एवं व्यक्तिगत था।
  • इस परीक्षण का नाम हिन्दुस्तानी-बिने परर्फोमेंस पाउण्ड स्केल था।
यह भी पढ़े -
उपलब्धि अभिप्रेरणा
राजस्थान के पशुमेले

बुद्धिलब्धि Intelligence Quotinet

  • बुद्धि परीक्षण का आधार मानसिक एवं शारीरिक आयु के मध्य का सम्बन्ध है।
  • मानसिक आयु का अर्थ -
  • गेट्स एवं अन्य के अनुसार ‘मानसिक आयु हमें किसी व्यक्ति की बुद्धि-परीक्षा के समय बुद्धि परीक्षा द्वारा ज्ञात की जाने वाली सामान्य मानसिक योग्यता के बारे में बताती है।

बुद्धि-लब्धि

  • कोल एवं ब्रूस - बुद्धि लब्धि यह बताती हैं कि बालक की मानसिक योग्यता में किस गति से विकास हो रहा है।
  • मानसिक आयु का विचार प्रारम्भ करने का श्रेय बिने को प्राप्त है।
  • ब्रिटेन के प्रसिद्ध मनोवैज्ञानिक विलियम स्टर्न ने 1912 में I.Q. शब्द का प्रयोग किया।
  • 1912 में ही स्टर्न ने I.Q. का सूत्र बनाने का प्रयास किया, लेकिन यह प्रामाणिक सूत्र नहीं था।
  • 1916 में अमेरिका के प्रसिद्ध मनोवैज्ञानिक प्रो. टरमन ने I.Q. का प्रमाणिक सूत्र बनाया।
  • I.Q. = मानसिक आयु /वास्तविक आयु X 100
    I.Q. = Mental Age/ Chronological Age X100

  • यदि मानसिक आयु में वास्तविक आयु का भाग देने से भागफल 1 आये, तो बालक सामान्य बुद्धि वाला समझा जाएगा।
  • 1 से अधिक भागफल आने पर बालक तीव्र बुद्धि वाला समझा जायेगा।
  • यदि भागफल 1 से कम आया तो बालक की गणना मंद बुद्धि वालों में की जायेगी।
  • टरमन का बुद्धि-लब्धि का वर्गीकरण-

  • 1. 0-25 महामूर्ख, जड़बुद्धि Idiot
    2. 26-50 मूढ़ बुद्धि Imbecite
    3. 51-70 अल्प बुद्धि, मूर्ख बुद्धि Moron
    4. 71-80 निर्बल, क्षीण बुद्धि Feeble
    5. 81-90 मन्द बुद्धि Dull/Back Ward
    6. 91-110 सामान्य बुद्धि Average
    7. 111-120 तीव्र, श्रेष्ठ बुद्धि Superior
    8. 121-139 अतिकुशाग्र Very Superior
    9. 140 से ऊपर प्रतिभाशाली Genius

  • सर्वप्रथम बुद्धि शब्द का प्रयोग 1885 में फ्रांसिस गाल्टन ने किया।
  • मानसिक परीक्षण शब्द का प्रयोग 1890 मं कैटल द्वारा किया गया।

Post a Comment

0 Comments