अजरक प्रिंट कहाँ की प्रसिध्द है


घोड़ाजीरा

  • इसबगोल को घोड़ाजीरा कहते हैं। इसके उत्पादन में राज्य का देश में प्रथम स्थान है।

ब्लू पॉटरी 

  • चीनी मिट्टी के बर्तनों पर मुख्यतः नीले रंग को आधार बनाकर आकर्षक चित्रकारी की कला। इसका जन्म पर्शिया में और महाराजा मानसिंह के समय जयपुर में प्रारम्भ हुई।

अजरक प्रिंट 

  • राजस्थान हस्तकला का बेजोड़ नमूना बाड़मेरी प्रिंट हैं, जिसमें दोनों तरफ से प्रिंट होता है। इसमें लाल व नीला रंग अधिक प्रयुक्त होता है।

राजस्थान स्टेट केमिकल वर्क्स 

  • नागौर जिले के डीडवाना में स्थापित है। इसके अंतर्गत तीन इकाइयां कार्यरत है - सोडियम सल्फेट वर्क्स, सोडियम सल्फेट संयंत्र, सोडियम सल्फाइड फैक्ट्री।

कार्गो हब -

  • कार्गो हब नीमराणा एवं भिवाड़ी में नालेज सिटी एवं एरोट्रोपालिस बनाकर कार्गो हब बनाया जा रहा है।

राज्य में रबड़ के टायर बनाने वाले कारखाने हैं -

  • कोटा श्री राम टायर व 
  • कांकरोली (राजसमंद) में जे.के. टायर

सिरेमिक उद्योग 

  • चीनी मिट्टी के बर्तन तैयार करने की तकनीक। राज्य में फायर क्ले, चाइना क्ले, बॉल क्ले, सिलिका बालू पर आधारित उद्योग कोटा, जयपुर, अजमेर व बीकानेर में हैं। बीकानेर में सिरेमिक पार्क की स्थापना की जा रही है।

मोरचंग (आरएएस मुख्य परीक्षा 2010)

  • लोहे का बना सुषिर वाद्य है जिसे दांतों के बीच दबाकर मुख्य रंध्र से फूंक देकर बजाया जाता है। जैसलमेर, बाड़मेर में प्रचलित है। लंगे सांरगी की संगत से बजाते हैं।

नड़ वाद्य 

  • रेगिस्तान क्षेत्र का सुषिर वाद्य है। इसकी बनावट गोपुच्छकृत है जिसमें चार छेद होते हैं। करणा भील इसका प्रसिद्ध वादक था।


Post a Comment

0 Comments