Tuesday, September 11, 2018

व्यक्तित्व मापन की विधियां

  • आत्मनिष्ठ - ये विधियां व्यक्ति के अनुभव तथा धारणा पर निर्भर है। जीवन इतिहास, प्रश्नावली साक्षात्कार तथा आत्मकथा लेखन।
  • वस्तुनिष्ठ - बाह्य व्यवहार का अध्ययन करने में वस्तुनिष्ठ विधियों का प्रयोग किया जाता है। नियंत्रित निरीक्षण मापन समाजमिति तथा शारीरिक परीक्षण
  • प्रक्षेपण - इन विधियों में उत्तेजक प्रस्तुत किये जाते हैं। व्यक्ति अपने अचेतन व्यवहार की अभिव्यक्ति करता है।
  • प्रासंगिक, अन्तर्बोध, बाल सम्प्रत्यय, वाक्यपूर्ति, कहानी रचना आदि।

प्रक्षेपण विधियां Projective Method-

अ. स्याही धब्बा परीक्षण Ink-Blot Test -

  • प्रवर्तक - हरमन रोर्शा ने 1921 ई. में स्विट्जरलैण्ड में
  • परीक्षण सामग्री - कुल 10 कार्ड, जिसमें 5 काले रंग, 2 काले व लाल रंग, और 3 कार्ड पर अनके रंग की स्याही के धब्बे।

उपयोगिताः-

  • इस परीक्षण के माध्यम से परीक्षार्थी के ज्ञानात्मक, क्रियात्मक एवं भावात्मक पक्षों को मापा जाता है।
  • इसका प्रयोग मानसिक रोगों के निदान, उपचार तथा बाल निर्देशन में भी होता है।
  • क्रो एवं क्रो के अनुसार धब्कों की व्याख्या करके परीक्षार्थी अपने व्यक्तित्व का सम्पूर्ण चित्र प्रस्तुत कर देता है।

ब. प्रसंगात्मक अंतर्बोधThematic Apperception Test  -

  • प्रवर्तकः मुर्रे एवं मॉर्गन, 1935
  • कुल 30 कार्ड 
  • 10 कार्ड पुरुषों के , 10 कार्ड महिलाओं के 
  • 10 कार्ड दोनों के 
  • 14 वर्ष से अधिक आयु के बालकों के लिए
  • उस परीक्षण के माध्यम से व्यक्ति की निराशा, आवश्यकता, काम-सम्बन्धी समस्या, रूचि, अभिरूचि आदि समस्याओं के बारे में जानकारी प्राप्त होती है। इसी आधान पर उसे उचित निर्देशन और मार्गदर्शन दिया जाता है।
इतिहास के लिए यह भी पढ़ेंमराठा साम्राज्य के संस्थापक - शिवाजी

स. बाल प्रसंगात्मक परीक्षण Children Apperception Test C.A.T.-

  • लियोपोल्ड बैलक ने 1948 ई. में
  • 3-11 वर्ष की आयु के मध्य के बालकों के व्यक्तित्व का माप करने हेतु
  • 10 चित्र, सभी चित्र जानवरों के 
  • भारत में कोलकाता में (उमा चौधरी) 
  • इस परीक्षण में योगदान अर्नेस्ट क्रिस ने दिया।
  • बच्चों को चित्र दिखाकर कहानी लिखने को कहा जाता है।

वाक्य या कहानी पूर्ति परीक्षण Sentence or Story Completion Test (SCT) -

  • प्रवर्तकः एबिंघास पाइने व टेण्डलर
  • यह विधि लिखित होने के कारण शिक्षित व्यक्तियों के लिए ही उपयोगी है।

खेल व नाटक विधि Play and Drama Method -

  • प्रवर्तकः जे.एल. मेरिनो

स्वतंत्र शब्द साहचय्र परीक्षण -

  • गाल्टन ने 1879 में

No comments:

Post a Comment

Loading...