Youtube

मिस्र सभ्यता



  • बुद्धि देने वाली सभ्यताः मिस्र
  • प्राचीन सभ्यताओं की जननी मिस्र को माना जाता है।
  • ज्ञान को माता के समान प्यार करो- मिस्र
  • मिस्र को नील नदी का वरदान कहा- हैरोडोटस ने
  • हेज व मून ने मिस्र को नील नदी की पुत्री कहा
  • सरदेसाई ने मिस्र को नील नदी की भेंट कहां
  • विल ड्यूरेट ने सभ्यता के पालने कहा
  • नील नदी इथोपिया के नूबिया स्थान से निकलती है। मिस्रवासी नील नदी को हापी नाम से पुकारते थे।
पिरामिड शब्द
  • मिस्री भाषा के पि-रे-मस शब्द से बना है जिसका अर्थ उंचा होता है।
  • मिस्र के फराओं ‘राजा’ ने मरणोत्तर जीवन का सुख भोगने के लिए मृत्त शरीर को जीवित रखने के लिए उंचे-उंचे मकबरों का निर्माण करवाया जो पिरामिड कहलाते। इन शवों को ममी कहा जाता है।
  • पिरामिड को गणित की जन्मकुण्डली कहा जाता हैं। जिससे भविष्य की गणना की जा सकती है।
  • गीजा का पिरामिड खूफ्रू अथवा खीओप्स ‘चिआटस’ द्वारा काहिरा के उपनगर गीजा में
  • करीब 2560 ई.पू.: निर्माण
  • समय 23 वर्ष लगा
  • प्राचीन विश्व के 7 आश्चर्यो में
  • सबसे उंचा पिरामिड:
  • मिस्र के राजा तुतन खामुन की कब्र है
  • 450 फुट उंचा
  • मनुष्य ने दैत्य का आकार पृथ्वी पर उतार दिया है: नेपोलियन बोनापार्ट
  • स्फिंक्स की प्रतिमा: मिस्र में
  • मिस्र के राजा खुफ्रू ने नृसिंह रूप में अपना स्मारक स्फिंक्स ‘ यूनानी शब्दः जीवन्त प्रतिमा’ बनवाया।
  • यूनानी लोगों का माना था कि इसका सिर एक स्त्री का और धड पंखों सहित शेर का था।
  • स्फिंक्स एक मिथकीय दैत्य था। पिरामिड युग का अंतिम राजा ‘फराओं’ कौन थाः पेपी द्वितीय
  • फराओं ;बडा घरद्ध को पृथ्वी पर ईष्वर का प्रतिनिधि सूर्यदेवता ‘रे’ का पुत्र था।
  • प्राचीन मिस्र की शासन व्यवस्था को ‘थियोक्रेसी’ धर्म तंत्र कहा जाता है।
  • फराओं के प्रशासनिक कार्यो में सहायता देने वाले अधिकारियों की परिषद को सरू कहा जाता था।
  • मिस्र की राजनीतिक एकता का जनक तथा प्रथम राजवंश का संस्थापक: मेने
  • मेने के समय से मिस्र का इतिहास क्रमबद्ध रूप से प्राप्त होता है।
  • मेने ने तेनी ‘यूनानी में थिस अथवा थिनिस’ को अपनी राजधानी बनाया।
  • हिक्सस ‘विदेशी शासक’: मिस्र भाषा
  • विश्व की पहली महिला साम्राज्ञी 1501-1479 ई.पू. हातशेपसुत
तुतमोस तृतीयः
  • प्रथम सेना नायक, प्रथम विजेता और संसार का प्रथम साम्राज्य निर्माता माना जाता है।
  • विलड्यूरेन्अ ने तुतमोस तृतीय को प्राचीन मिस्र के नेपोलियन की संज्ञा दी।
  • अनहोतेप तृतीय ‘1411-1375 ई.पू. को मिस्र का शाहजहां
  • मिस्र की सभ्यता में किसे ‘मानव जाति के इतिहास में प्रथम मानव’ कहाः अमनहोतेप चतुर्थ 1375-58 ई.पू. को। इसने नाम बदल कर ‘अखनाटक’ रख लिया।
  • अखनाटक का अर्थ ‘एटान जिस पर प्रसन्न है।
  • मिस्र वासियों ने बहुदेव वाद के स्थान पर एकेश्वरवाद की उपासना का सिद्धांत प्रचलित किया। अमनहोतेप ने ‘एटन’ नामक सूर्य देवता की पूजा प्रचलित की।
  • अखनाटक ने थीब्स ‘थिबिज’ के स्थान पर अखनाटक ‘अलअमर्ना’ नाम से नई राजधानी बनाई।
  • अकबर के ‘दीन-ए-इलाही’ धर्म की तरह अखनाटक का धर्म भी उसकी मृत्यु के साथ समाप्त हो गया।
  • घर को पर कहते है।
  • मिस्र का समाजः वर्ग- राजपरिवार, पुरोहित, सामन्त, सैनिक अधिकारी, मध्यम वर्ग, मजदूर, दास।
  • मैक्समूलरः ‘‘ किसी भी प्राचनी समाज में नारी को इतना उंचा स्तर प्रदान नही किया गया जितना मिस्र में।

धार्मिक जीवनः

  • नूत- आकाश देवता
  • सिन- चन्द्रमा
  • टाः - मिस्र में कलाओं और कलाकारों का संरक्षक देवता
  • आइसिस- मिस्र की मातृदेवी
  • मेम्फिस - धर्मशास्त्र ‘नाटक’ की रचना की प्राचीनतम दार्शनिक रचना है।
  • आसाइरिस ‘ओसिरिस’ - नीलनदी, पृथ्वी और हरियाली तीनों की मिली-जुली शक्तियों का प्रतीक, नीलनदी का पिता।
  • 3000 देवी- देवताः मिस्र में
  • अबू सिममबल से- उगते हुए सूर्य का मंदिर।
  • मिस्र का राज चिह्न- पक्षयुक्त सूर्यचक्र
मिस्र सभ्यता की विश्व को देनः
  • जमीन की पैमाइश
  • नहरों तथा पिरामिडों के निर्माण के सिलसिलें में मिस्री लोगों में रेखागणित का विकास किया।
  • मिस्रवासियों ने रसायन के कई ऐसे लेप तैयार किए थे, जिनसे लाखों को कई शताब्दियों तक यथावत सुरक्षित रखा जा सकता था।
  • मिस्रवासियों को चंद्रग्रहण और सूर्यग्रहण के बारे में ज्ञान था।
  • इस सभ्यता ने जोडना, घटाना और भाग की पद्धति की खोज की।
  • 1-9 तक की गिनती, 365 दिन का एक वर्ष कैलेण्डर प्रदान।
  • पिरामिड का क्षेत्रफल निकालने के लिए मैनसुरेषन के सिद्धांतों का आविष्कार किया।
  • मिस्र में सोथिक ‘लुब्धक’ तारे के उदय पर आधारित ‘सोथिक पंचाग’ का प्रचलन
  • साहित्य में कथा व काव्य का प्रयोग
  • मिस्र की कला की विशेषताएंः शक्तिशाली, विशाल, गौरवमय है।
  • विश्व सभ्यता को मिस्र की सर्वाधिक महत्वपूर्ण देन: कला क्षेत्र में
  • भारत का तानसेन- मिस्र अमेनहोटेप
  • हार्प मिस्र का वाद्ययंत्र था।
  • लिपिः हाइरोग्लिफिक, हिराटिक
  • सबसे प्राचीन लिपि, यह यूनानी शब्द हाइरो ‘पवित्र’ और ग्लिफिक ‘अंकन’ से बना है।
मिस्र में शिक्षाः
  • सेसे और हैलियोपोलिस उस समय के प्रसिद्ध शिक्षा केन्द्र थे। उद्देश्य: राजकीय कार्य चलाने के लिए लिपिक तैयार करना।
  • थीब्स नगर मिस्र के साहित्य का प्रसिद्ध केंद्र था।
  • मृत्तकों की पुस्तक में मिस्र के शासकों की जानकारी।
  • इयुवेर की भविष्यवाणी: साहित्यक
मिस्र की लेखन कलाः
  • लेख कला मिस्र में विकसित
  • वर्ण माला 2800 सांकेतिक चिह्न
  • मिस्र के लोग पेपिरस घास से कागज बनाते थे और सरकंडे की कलम बनाकर लिखते थे।
  • प्राचीन मिस्र ने यह सिद्ध कर दिया कि मनुष्य क्या कुछ नही कर सकताः प्लेटो
  • मिस्र वर्णमाला में 22 अक्षर
  • विश्व की पहली औषधि संहिता का निर्माण मिस्र सभ्यता ने किया।
  • राजनीति के क्षेत्र में मिस्र की पुमुख देन मिस्र ने एक केंद्रीय सत्ता को जन्म देकर साम्राज्य की स्थापना की।
  • नौकरशाही की निर्माण
  • प्रान्तीय शासन व्यवस्था का निर्माण


Post a Comment

0 Comments