होप स्पॉट्स क्या है?

 

Hope spots

  • 'होप स्पॉट्स' ऐसे विशिष्ट समुद्रीय पारिस्थितिकी तंत्र वाले क्षेत्र हैं जिन्हें उनके महत्त्वपूर्ण जलीय अधिवासों एवं समुद्रीय जैव विविधता के संदर्भ में संरक्षण की विशेष आवश्यकता है।
  • ज्ञातव्य है कि प्रसिद्ध अमेरिकी समुद्र विज्ञानी सिल्विया अर्ल द्वारा स्थापित वैश्विक पहल 'मिशन ब्लू' (Mission Blue) समुद्रीय पारिस्थितिक सुरक्षा हेतु 'होप स्पॉट्स' का वैश्विक नेटवर्क तैयार कर रही है।
  • 21-27 अक्टूबर, 2013 के दौरान आईयूसीएन (IUCN-International Union for Conservatin of Nature) तथा फ्रांस की मैरीन प्रोटेक्टेड एरिया एजेंसी द्वारा फ्रांस के मार्सेली (Marseille) और कोर्सिका (Corsica) में तृतीय 'अंतर्राष्ट्रीय मरीन प्रोटेक्टेड एरिया कांग्रेस' (IMPAC-3) का आयोजन किया गया।
  • IMPAC-3 के दौरान विश्व के 31 नए क्षेत्रों को 'होप स्पॉट्स" (Hope Spots) की सूची में सम्मिलित किया गया है जिसमें भारत के लक्षद्वीप और अंडमान एवं निकोबार के क्षेत्र शामिल हैं। 9 सितंबर, 2016 तक दुनिया भर में 76 होप स्पॉट थे। 

Post a Comment

0 Comments