महाभारत में झारखण्ड को किस नाम से जाना जाता था?

झारखंड राज्य का सामान्य अध्ययन जो विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में में पूछे जा चुके हैं। इनमें प्रमुख हैं संयुक्त सिविल सेवा प्रारंभिक प्रतियोगिता परीक्षा, सहकारिता प्रसार पदाधिकारी एवं अंकेक्षण पदाधिकारी परीक्षा, शिक्षक भर्ती, जेपीएससी सहायक परीक्षा, प्राथमिक शिक्षक नियुक्ति परीक्षा में आए प्रश्नों का संकलन।

महाभारत में झारखण्ड को किस नाम से जाना जाता था?
अ. नागदेश ब. गंधर्व देश
स. पुंडरीक देश  द. मत्स्य देश
उत्तर- स
व्याख्या- महाभारत में झारखण्ड को पुंडरीक देश कहा जाता था। वायु पुराण में झारखण्ड को ‘मुरण्ड’ तथा विष्णु पुराण में ‘मुंड’ कहा गया है। ऐतरेय ब्राह्मण में इस प्रदेश को पुंड्र की संज्ञा दी गई है।
विदेशी यात्रियों में टॉलेमी ने ‘मुंडल’ कहा है। चीनी यात्री फाह्यान ने इस प्रदेश को ‘कुक्कुटलाड’ तथा ह्वेनसांग ने इसे ‘कि-ला-सु-फा-लाना’ के नाम से उल्लेख किया है।
संस्कृत साहित्य में झारखण्ड राज्य को पुलिंद देश और दर्सान कहा गया है।
मुस्लिम इतिहासकारों ने इसे कोरी, कोडरा, उड़ीसा आदि नामों से पुकारा है।

संथाल विद्रोह का नेतृत्व किसने किया?
अ. सिद्धू-कान्हू ब. भैरव, चांद
स. अ और ब दोनों द. दोनों में से कोई नहीं
उत्तर- स
नतुउ नृत्य किस प्रकार का नृत्य है?
- पुरुष नृत्य

छोटानागपुर संथाल परगना आदिवासी सभा (1881 ई.) के संस्थापक कौन थे?
- थियोडोर सुरीन

खेरवार आदिवासी आंदोलन कब हुआ?
अ. 1857 ब. 1860
स. 1865 द. 1874
उत्तर- द

राजमहल ट्रेप किन चट्टान से निर्मित है?
- बेसाल्ट
1916 के समय छोटानागपुर में कितने इंकबर्ड स्टेट थे?
- 35
झारखंड टूरिस्ट होम स्टे स्कीम की शुरुआत कब हुई थी?
- 2009 में

झारखण्ड का राजकीय पुष्प कौन-सा है?
अ. गुलाब       ब. कमल
स. पलाश         द. गेंदा
उत्तर- स

जनसंख्या की दृष्टि से झारखण्ड की सबसे बड़ी जनजाति है?
अ. हो ब. मुंडा
स. संथाल         द. उरांव
उत्तर- स
व्याख्या- जनसंख्या की दृष्टि से जनजातियों का क्रम है- संथाल, उरांव, मुंडा और हो।

Post a Comment

Previous Post Next Post