न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें

न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें
9.71 करोड़ में बिका यह कबूतर, आखिर क्या खूबी है इसकी

Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Friday, August 24, 2018

ह्वेनसांग का यात्रा विवरण

  • ह्वेनसांग चीनी बौद्ध यात्री था, जो हर्ष के समय भारत आया। वह बौद्ध स्थलों के दर्शन एवं बौद्ध ग्रंथों के अध्ययन करने के उद्देश्य से भारत आया था।
उसने भारत के सम्बन्ध में निम्नलिखित विवरण दिया-

सामाजिक स्थिति -
  • तत्कालीन समाज ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य व शूद्र वर्णों में विभाजित था। प्रथम तीन वर्ण समृद्ध थे। वे स्वच्छता, रहन-सहन पर ज्यादा ध्यान देते थे।
  • शूद्र खेती व परिचर्या का कार्य करते थे। 
  • समाज में शुद्ध भोजन तथा नैतिक चरित्र पर बल था।
  • प्याज, लहसुन एवं मांस खाने वालों का निवास शहर से बाहर था।
  • अन्तर्जातीय विवाह प्रतिबंधित थे।
आर्थिक स्थिति -
  • भूमि उर्वरा थी तथा लोग समृद्धशाली थे।
  • सोने-चांदी के सिक्कों एवं सामान्यतः कौड़ियों का मुद्रा के रूप में प्रचलन था। 
  • वस्त्रोद्योग का व्यवसाय उन्नत था।
  • समाज में श्रेणी व्यवस्था प्रचलित थी।
  • ताम्रलिप्ति, भड़ौंच, पाटलीपुत्र आदि शहर व्यापारिक केन्द्र थे। 
  • चीन, मध्य एशिया, पश्चिम से भारत के व्यापारिक संबंध थे।
  • कपड़ा, मसाले, निर्यात एवं घोड़े, सोना-चांदी आयात की प्रमुख वस्तुएँ थी।
  • कृषि कर उपज का 1/6 भाग होता था।
धार्मिक जीवन -
  • ज्ञान की खोज धार्मिक जीवन का मुख्य लक्ष्य था।
  • भारत में ब्राह्मण धर्म का प्रभाव था। जैन एवं बौद्ध धर्म भी प्रचलित थे। राजा-प्रजा धर्म सहिष्णु थे।
  • बौद्धों में महायान प्रभावी था।
  • सभी धर्मों में मूर्तिपूजा प्रचलित थी। ब्राह्मण धर्म में यज्ञ एवं गायें आदरणीय थी।
राजनीतिक जीवन -
  • शासन पद्धति हितकारी सिद्धान्तों पर आधारित थी। राज्य की आय राजकार्य चलाने, वेतन पुरस्कार तथा दान आदि में खर्च होती थी।
  • हर्ष की राजकार्यों में व्यक्तिगत रुचि थी, वह निरीक्षण यात्राएँ करता रहता था।
  • दण्डनीति उदार थी। अपराध कम होते थे। कुछ अपराधों में कठोर सजा थी। हर्ष के पास विशाल सेना थी।
शिक्षा -
  • शिक्षा विहारों व गुरुकुल के माध्यम वेदों का पाठ मौखिक होता था।
  • ब्राह्मी लिपि प्रचलित थी। शिक्षा में संस्कृत भाषा तथा वाद-विवाद प्रचलित थे।
  • नालन्दा एवं वल्लभी शिक्षा के प्रमुख केन्द्र थे।

No comments:

Post a Comment

भारत ने किया 'RISAT-2B' उपग्रह का सफल प्रक्षेपण

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने एक ओर कामयाबी 22 मई को तब दर्ज की, जब उसने हर मौसम में काम करने वाले रडार इमेजिंग निगरा...

Loading...