न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें

न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें
9.71 करोड़ में बिका यह कबूतर, आखिर क्या खूबी है इसकी

Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Sunday, September 24, 2017

लार्ड हेस्टिंग्ज Lord Hesting

लार्ड हेस्टिंग्ज 1813-23

वैल्जली ने भारत में कम्पनी का सैनिक प्रभुत्व स्थापित किया।

आंग्ल-नेपाल युद्ध 1814-16 ई.

- कम्पनी तथा नेपालियों का झगड़ा तब हुआ जब नेपालियों ने बस्ती के उत्तर मं बटवाल तथा उसके पूर्व में शिवराज जिलों पर अधिकार कर लिया।
- हेस्टिंग्ज ने युद्ध की घोषणा कर दी। सतलुज से कोसी नदी तक उनके विरूद्ध 4 स्थानों से आक्रमण करने की योजना बनाई। वह स्वयं मुख्य सेनापति था।
- 1814-15 के अभियान पूर्णतया असफल रहे। जनरल गिलिसपाई का कालंग के दुर्ग पर आक्रमण विफल रहा तथा वह स्वयं वीर गति को प्राप्त हुए।
- मेजर जनरल मार्टिडल जैतक दुर्ग को जीतने में असफल रहा।
- कर्नल निकलस तथा गार्डनर ने कुमाऊं की पहाड़ियों में स्थित अलमोड़ा नगर विजय कर लिया (अप्रैल 1815) और जनरल ऑक्टरलोनी ने मालाओं नगर को अमरसिंह से छीन लिया।
- डेविड ऑक्टरलोनी ने 28 फरवरी 1816 को मकवनपुर के स्थान पर गोरखों को करारी मात दी।

सगौली की सन्धि, 2 दिसम्बर 1815 ई. को

- सगौली नामक स्थान पर
- जिसे मार्च 1816 ई. में गोरखों ने स्वीकार कर ली।
- अंग्रेजों को गढ़वाल, कुमायूं के जिले तथा तराई का बड़ा हिस्सा प्राप्त हुआ।
- गोरखों ने काठमाण्डू में एक ब्रिटिश रेजिडेंट रखना स्वीकार कर लिया।
- सिक्किम पर से गोरखों ने अपना दावा वापस ले लिया।
- अंग्रेजों को अब गोरखों जैसे साहसी सैनिक भी प्राप्त हो गये।
- हेस्टिंग्ज के भारत में तीन उद्देश्य थेः 1. पिण्डारियों का दमन, 2. मराठों को कम्पनी के अधीन लाना तथा 3. छोटी-छोटी रियासतों को अंग्रेजी संरक्षण में लाना।

पिण्डारी

- पहला उल्लेख मुगलों के महाराष्ट्र पर 1689 ई. के आक्रमण के समय
- बाजीराव के काल से ये अवैतनिक रूप में मराठों की ओर से लड़ते थे और लूट में भाग लेते थे।
- मल्हार राव ने इन्हें एक सुनहला झण्डा भी दे दिया।
- 1794 में सिन्धिया ने इन्हें नर्मदा घाटी में जागीर प्रदान की।

- मेल्कम ने इन्हें ‘मराठा शिकारियों के साथ शिकारी कुत्तों’ की उपमा दी थी।

- 19वीं सदी में पिण्डारियों के तीन प्रमुख नेता चीतू, वासिल मुहम्मद तथा करीम खां थे।
- 1812 में उन्होंने अंग्रेजों के अधीन मिरजापुर तथा शाहाबाद जिलों पर आक्रमण किया।
- स्मिथ, पी.ई. राबर्टस तथा एस.एम. एडवर्डस ने- दौलतराव सिन्धिया को इनका एकमात्र सरदार बताया
- उत्तरी सेना की कमान हेस्टिंग्ज ने स्वयं ले ली तथा दक्षिणी सेना सर टॉमस हिसलोप को दे दी।
- करीम खां ने मेल्कम को आत्मसमर्पण कर दिया तथा उसे गोरखपुर जिले में एक छोटी-सी जागीर दे दी गई।
- वासिल मुहम्मद ने सिन्धिया के महा शरण ली तथा उसने उसे अंग्रेजों को सौंप दिया। जेल में उसने आत्महत्या कर ली। चीतू को जंगल में शेर खा गया।
- गवर्नर थॉमस मुनरो द्वारा 1820 ई. में मद्रास प्रांत में रैयतवाड़ी व्यवस्था लागू की गई।

No comments:

Post a Comment

भारत ने किया 'RISAT-2B' उपग्रह का सफल प्रक्षेपण

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने एक ओर कामयाबी 22 मई को तब दर्ज की, जब उसने हर मौसम में काम करने वाले रडार इमेजिंग निगरा...

Loading...