Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Tuesday, August 1, 2017

लूनी नदी


  • उद्गम - अजमेर की नाग पहाड़ियों से, यहां सागरमती बाद में लूनी नाम से जानी जाती है।
  • लम्बाई- 330 किमी
  • दक्षिण-पष्चिम में नागौर, जोधपुर, पाली, बाड़मेर एवं जालौर जिलों में बहती हुई गुजरात में प्रवेष कर कच्छ के रन में गिरती है।
  • अरावली पर्वत के पष्चिम में बहने वाली एकमात्र नदी
  • लूनी नदी का पानी बालोतरा तक मीठा बाद में आगे खारा हो जाता है।
  • पाली जिले के सुमेरपुर कस्बे में जवाई नदी पर जवाई बांध बना है, जो मारवाड़ का अमृत सरोवर कहलाता है।
  • लूनी की सहायक नदियां- लीलरी, सागाई, सूकड़ी, मीठड़ी, जवाई और गुहिया आदि नदियां पूर्व की ओर से और जोजरी नदी पष्चिम से (जोधपुर) से आकर मिलती है।
  • जोजडी नदीः
  • जोधपुर में बहती हुई ददिया गांव में लूनी में मिल जाती है, जो दांयी ओर से मिलती है।
  • जवाई नदीः
  • लूनी नदी का सहायक नदी
  • पाली जिले के बाली तहसील के गोरिया गांव से उद्गम
  • पाली व जालौर में बहती हुई बाड़मेर के गुढा में लूनी में मिल जाती है
  • मारवाड़ का अमृत सरोवरः जवाई बाँध, पाली
माही नदीः
  • उद्गमः मध्यप्रदेश के अमरोरू जिले में मेहद झील (मालवा पठार) से
  • उपनामः बागड की गंगा, कांठल की गंगा, आदिवासियों की गंगा, दक्षिण राजस्थान की स्वर्ण रेखा
  • कुल लम्बाई 576 किमी है जबकि राजस्थान में 171 किमी लम्बाई है।
  • माही नदी दूसरी नित्यावाही नदी है। राजस्थान में खांदु गांव (बांसवाड़ा) के निकट से प्रवेष करती है। यह अंग्रेजी के उल्टे यू के आकार में बहती है।
  • यह डूंगरपुर, बांसवाड़ा एवं प्रतापगढ़ जिलों में बहती हुई गुजरात में प्रवेष कर खम्भात की खाड़ी में गिर जाती है।
  • बांसवाड़ा में लोहारिया गांव के समीप माही-बजाजसागर बांध बनाया गया है। इ
  • यह नदी कर्क रेखा को दो बार पार करती है।
  • गुजरात के पंचमहल जिले में कडाना बांध बनाया गया है।
  • सहायक नदियांः सोम, जाखम, अनास, चाप
  • चम्बल नदीः
  • राजस्थान का सबसे ऊंचा जल प्रपात चूलिया जल प्रपात, चित्तौड़गढ़


No comments:

Post a Comment

Loading...