Youtube

मूसी महारानी की छतरी

मूसी महारानी की छतरी



मूसी महारानी की छतरी

  • स्थान: अलवर में
  • स्मारक: महाराजा विनय सिंह ने महाराजा बख्तावर सिंह (1790-1815 ई.) और मूसी महारानी की स्मृति में करवाया
  • निर्माण वर्ष: 1815-41 में
विशेषता:
  • यह छतरी करौली के बलुआ लाल पत्थर से निर्मित 89 वर्गमीटर धरात के मुख्य स्मारक में चारों ओर बरामदा है।
  • 80 खम्भों पर मूसी महारानी की छतरी बनी हुई है। यह छतरी करौली के बलुआ लाल पत्थर और संगमरमर से बनी है।
  • इसमें महाराजा बख्तावर सिंह का जुलूस, गजासुर कथा, भगवान श्रीकृष्ण, श्री रामचन्द्र, लक्ष्मणजी, सीता माता एवं पशु-पक्षियों के चित्र बने हैं। 
  • लाल बलुआ पत्थर से बनी हाथी के आकार की संरचनाएं और रामायण व महाभारत के भित्ति चित्र इसकी और ध्यान आकर्षित करती है। 
  • ऊपरी मंजिल में संगमरमर से बनी हुई असामान्य गोल छत, शानदार पट्टी और मेहराब है। स्मारक की आंतरिक संरचना में शानदार नक्काशी है और दीवारों पर चित्र है।

84 खम्बों की छतरी

  • बूंदी शासक शत्रुसाल का स्मारक (1631 ई.)
  • बूंदी के देवपुरा के पास रावराजा अनिरुद्ध सिंह के भाई देवा की स्मृत्ति में 1740 ई. बनाई गई। तीन मंजिला छतरी में 84 भव्य स्तम्भ है।

गैटोर की छतरियां

  • गैटोर की छतरियां जयपुर के पास गैटोर में स्थित है। यह छतरियां पंचायन शैली में बनी है। यह जयपुर के शासकों की समाधि स्थल है, जहां जयपुर के राजाओं की छतरियां है। 
  • यहां सर्वप्रथम सवाई जयसिंह की छतरी बनी थी। 
  • सवाई ईष्वरी सिंह की छतरी चन्द्रमहल (सिटी पैलेस) के जयनिवास उद्यान में स्थित है। उनकी छतरी का निर्माण सवाई माधोसिंह ने करवाया था।

मंडोर की छतरियां

  • यहां पर जसवंत सिंह द्वितीय के पूर्व के जोधपुर के शासकों की छतरियां है। इनमें सबसे बड़ी छतरी अजित सिंह की है।


Post a Comment

0 Comments