सूफी आन्दोलन


  • पहले मत के अनुसार, सूफी शब्द 'सूफ' से बना है जिसका तात्पर्य है— ऊन या ऊनी कपड़ा।
  • दूसरे मत के अनुसार, सूफी शब्द की उत्पत्ति 'सफा' से हुई जिसका अर्थ है— पवित्रता या शुद्धि की अवस्था।
  • सूफी रहस्यवादी थे।
  • उन्होंने सार्वजनिक जीवन में धन के अभद्र प्रदश्रन व धर्म भ्रष्ट शासकों की उलेमा द्वारा सेवा करने की तत्परता का विरोध किया।


सूफी जगत का प्रसिद्ध सिद्धांत 'वहदत—उल—वुजूद' जिसका सार है— ईश्वर सर्वव्यापी हैं और सबमें उसी की झलक है।' प्रतिपादित किया?

1. मंसूर ने

2. गिजाली ने

3. इब्नुलअरबी ने 

4. मोईनुद्दीन चि​श्ती ने

उत्तर- 3


  • सूफियों ने स्वतंत्र विचारों एवं उदार सोच पर बल दिया।
  • वे धम्र में औपचारिक पूजन, कठोरता एवं कट्टरता के विरुद्ध थे।
  • सूफियों ने धार्मिक संतुष्टि के लिए ध्यान पर जोर दिया।
  • भक्ति संतों की तरह, सूफी भी धर्म को ईश्वर के प्रेम एवं मानवता की सेवा के रूप में परिभाषित करते थे।
  • सूफी विभिन्न सिलसिलों श्रेणियों में विभाजित हो गए।
  • प्रत्येक सिलसिले में स्वयं का एक पीर यानी मार्गदर्शक था जिसे ख्वाजा या शेख भी कहा जाता था। 
  • पीर एवं उसके शिष्य खानका(सेवागढ़) में रहते थे। 
  • पीर अपने कार्य को आगे जारी रखने के लिए वली अहद (उत्तराधिकारी) नामित कर देता था। 
  • समां — पवित्र गीतों का गायन
  • ईराक में बसरा सूफी गतिविधियों का केन्द्र बन गया।

सिलसिले दो प्रकार के थे—

  • बेशरा और बाशरा।
  • बाशरा के अंतर्गत वे सिलसिले आते थे जो शरा (इस्लामी कानून) को मानते थे और नमाज, रोजा आदि नियमों का पालन करते थे। इनमें प्रमुख थे चिश्ती, सुहरावर्दी, फिरदौसी, कादिरी व नख्शबंदी सिलसिले थे।
  • बे-शरा सिलसिलों में शरीयत के नियमों को नहीं मानते थे। जैसे कलन्दर, फिरदौसी सिलसिले।


भारत में सूफीमत

  • भारत में सूफी मत का आगमन 11वीं और 12वीं शताब्दी में माना जाता है। 
  • अल हुजवारी भारत में बसे सूफी, जिनका निधन 1089 ई. में हो गया। उन्हें दाता गंजबख्श (असीमित खजाने के वितरक) के रूप में जाना जाता है।  
  • प्रारंभ में सूफियों के मुख्य केन्द्र मुल्तान व पंजाब थे।
  • भारत में आने से पूर्व ही सूफीवाद ने एक निश्चित रूप ले लिया था।
  • अबुल फजल ने 'आइन-ए-अकबरी' में 14 सूफी सिलसिलों का उल्लेख किया है। 


चिश्ती सिलसिला

  • चिश्ती सिलसिले की स्थापना खुरासान में अबू इशाक ने की थी। 
  • भारत में चिश्ती सिलसिला सबसे अधिक लोकप्रिय एवं प्रसिद्ध हुआ। 
  • भारत में चिश्ती परंपरा के प्रथम संत शेख उम्मान के शिष्य ख़्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती (जन्म 1142 ई. और मृत्यु 1236 ई. में अजमेर में हुई) थे। इन्होंने ‘चिश्तिया परंपरा’ की नींव रखी थी।
  • उनकी दरगाह अजमेर में स्थित है।


भारत में 'चिश्ती' सिलसिले की नींव रखने वाले थे?

1. ख्वाजा बख्तियार काकी

2. मोईनुद्दीन चिश्ती

3. निजामुद्दीन औलिया

4. मंसूर

उत्तर- 3


  • मोईनुद्दीन चिश्ती 1192 ई. में मुहम्मद गौरी के साथ भारत आए थे। 
  • मोईनुद्दीन चिश्ती ने अजमेर को अपना केंद्र (खानकाह) बनाया। उनकी दरगाह अजमेर में स्थित है और ‘ख़्वाजा साहब’ के नाम से प्रसिद्ध है।
  • इनके शिष्यों में शेख हमीउद्दीन और कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी काफी लोक​प्रिय थे। शेख हमीउद्दीन को ख्वाजा ने 'सुल्तान तारीकिन' की उपाधि प्रदान की थी।


मोईनुद्दीन चिश्ती के शिष्य जिन्हें उन्होंने 'सुल्तान तारिकीन' की उपाधि प्रदान की?

1. कुतुबुद्दीन बख्तिायार काकी

2. शेख फरीदुद्दीन

3. शेख हमीउद्दीन

4. निजामुद्दीन औलिया

उत्तर- 3


  • कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी की खानकाह का कई क्षेत्रों के लोगों ने दौरा किया। दिल्ली के सु​ल्तान इल्तुतमिश ने कुतुबुद्दीन को 'शेख-उल-इस्लाम' का पद देने पर अस्वीकार करने वाले सूफी संत थे।
  • कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी का जन्म भारत में हुआथा। वे पहले मुल्तान में बसे, फिर इल्तुतमिश के समय दिल्ली आ गये। बाद में माजमुद्दीन सुगरा शेख—उल—इस्लाम से सम्बन्ध बिगड़ जाने पर अजमेर जाने का फैसला किया। शेख कुतुबुद्दीन रहस्यवाद गीतों के बड़े प्रेमी थे। 
  • इनके शिष्यों में शेख फरीदुद्दीन मसूद गज ए शिकार अधिक प्रसिद्ध है। ये गुरु नानक से काफी प्रभावित थे।  
  • वस्तुतः बाबा फरीद के कारण चिश्ती सिलसिले को भारत में अत्यधिक प्रसिद्धि मिली। 
  • सुल्तान इल्तुतमिश ने कुतुबमीनार को अजोधन के शेख फरीदुद्दीन को समर्पित किया। जिन्होंने चिश्ती सिलसिलों को आधुनिक हरियाणा और पंजाब में लोकप्रिय किया।
  • बाबा फरीद का हिन्दुओं एवं मुसलमानों के द्वारा सम्मान किया जाता था। इनकी प्रसिद्धि के प्रभाव से सिख गुरु अर्जुन देव ने ‘गुरुग्रंथ साहिब’ में इनके कथनों को संकलित कराया है।
  • बाबा फरीद के सबसे प्रसिद्ध शिष्य शेख निजामुद्दीन औलिया (1238-1325 ई.) ने दिल्ली को चिश्ती सिलसिले का महत्वपूर्ण केन्द्र बनाने का उत्तरदायित्व संभाला। वह 1259 ई. में दिल्ली आया और दिल्ली में अपने 60 वर्षों के दौरान उन्होंने 7 सुल्तानों का शासनकाल देखा। 
  • एक बार अलाउद्दीन खिलजी ने निजामुद्दीन औलिया से मिलने की इच्छा जाहिर की, लेकिन औलिया ने कहा, 'मेरे घर में दो दरवाजे हैं, यदि सुल्तान एक से अंदर आता है तो मैं दूसरे से बाहर चला जाउंगा।'
  • सुल्तान गयासुद्दीन ने बंगाल अभियान के समय शेख को एक पत्र लिखा था जिसके प्रत्युत्तर में औलिया ने कहा कि 'हनोज दिल्ली दूर अस्त'। 
  • शेख निजामुद्दीन को 'महबूबे इलाही' के नाम से भी जाना जाता है। शेख निजामुद्दीन एकमात्र अविवाहित चिश्ती सूफी संत थे। 
  • उन्हें राज्य के शासकों और रईसों के साथ और राजकाज से दूर रहना पसंद था।
  • वे किसी भी सुल्तान के दरबार में उपस्थित नहीं हुए।
  • निजामुद्दीन औलिया के प्रिय शिष्य अमीर खुसरो थे।
  • शेख नसीरूद्दीन महमूद, चिराग-ए-दिल्ली के नाम से प्रसिद्ध थे। शेख चिराग को कुतुबुद्दीन मुबारकशाह तथा मुहम्मद बिन तुगलक के कारण कुछ समस्याओं का सामना भी करना पड़ा।
  • चिश्ती संतों ने संगीत को बढ़ावा दिया।
  • चिश्ती सिलसिले के संत व्यक्तिगत संपत्ति को आत्मिक उन्नति और विकास के मार्ग में बाधा मानते थे। उनका रहन—सहन अत्यंत साधारण था। 
  • चिश्ती सिलसिले के संत ईश्वर के प्रति प्रेम और मनुष्य मात्र की सेवा में विश्वास रखते थे। वे मनुष्य मात्र की सेवा को भक्ति से भी उंचा समझते थे।
  • ये कर्मकाण्डों के विरोधी थे, जनकल्याण पर पूरा ध्यान देते थे। 
  • राजनीति से दूर रहते थे।
  • इस्लाम में पूर्ण आस्था रखते हुए सर्वधर्म समभाव पर समान रूप से बल देते थे। 
  • निम्न वर्गों के प्रति ज्यादा सक्रिय थे। संगीत समारोह का आयोजन करना तथा उनमें भाग लेते थे।


दक्षिण भारत में चिश्ती सि​लसिला

  • भारत में चिश्ती संप्रदाय सबसे अधिक लोकप्रिय व प्रसिद्ध हुआ।
  • दक्षिण भारत में चिश्ती सिलसिले को प्रारंभ करने का श्रेय निजामुद्दीन औलिया के शिष्य ‘शेख बुरहानुद्दीन गरीब’ को जाता है। इन्होंने दौलताबाद को अपने प्रचार-प्रसार का केंद्र बनाया।
  • मुगल शासक अकबर फतेहपुर सीकरी के चिश्ती संत शेख सलीम चिश्ती के प्रति आदर भाव रखता था तथा अपने पुत्र जहाँगीर को उनका ही आशीर्वाद समझता था। ‘फतेहपुर सीकरी’ में अकबर ने शेख सलीम चिश्ती के मकबरे का निर्माण कराया।
  • चिश्ती सिलसिले के संत प्रवृत्ति से अत्यंत उदार थे। उन्होंने ऊंच-नीच, धर्म-जाति और जन्म के भेदभाव को त्यागकर मानव सेवा व प्रेम को प्रमुखता दी।
  • चिश्ती सम्प्रदाय के गेसूदराज ने गुलबर्गा को केन्द्र बनाकर दक्कन में प्रचार किया। 
  • चिश्ती सिलसिले से संबंधित संत सुल्तान या अमीरों से कोई वास्ता नहीं रखते थे।


सुहरावर्दी सिलसिला

  • यह सिलसिला भारत के उत्तर—पश्चिमी क्षेत्र में अधिक प्रचलित था। 
  • इस सिलसिले के संस्थापक शेख शिहाबुद्दीन सहुरावर्दी थे। 
  • उनके शिष्यों में शेख हमीदुद्दीन नागौरी और मुल्तान के शेख बहाउद्दीन जकारिया विशेष प्रसिद्ध थे। 
  • भारत में इस सिलसिले को संगठित करने का श्रेय शिहाबुद्दीन के शिष्य शेख बहाउद्दीन जकारिया (1182—1262) जाता है। उसने मुल्तान में अपने खानकाह की व्यवस्था की। 
  • उसने खुलकर कुबाचा के विरुद्ध इल्तुतमिश का पक्ष लिया, इस पर इल्तुतमिश ने उसे शेख—उल—इस्लाम (इस्लाम के नेता) की उपाधि प्राप्त की। 
  • ​सुहरावर्दियों ने चिश्ती सिलसिले के विपरीत, सुल्तानों के साथ नजदीकी संपर्क बनाए। उन्होंने उपहार, जागीरें एवं सरकारी नौकरियां स्वीकार कीं। 
  • यह सिलसिला पंजाब और सिंध प्रांत में फैला था। 
  • इसके प्रमुख संतों में शेख रुक्नुद्दीन, शेख समाउद्दीन जमाली, मखदूमे जहांनियां, सैय्यद जलालुद्दीन बुखारी आदि थे।
  • शेख रुक्नुद्दीन ने सुहरावर्दी सिलसिले को काफी प्रसिद्धि दिलाई। 
  • बहाउद्दीन के पुत्र सहरुद्दीन आरिफ मुल्तान में तथा शिष्य सैयद जलालुद्दीन खुर्श बुखारी सिन्ध में सक्रिय थे। 
  • शेख हमीदुद्दीन की याद में नागौर में इल्तुतमिश ने अतारकीन का दरवाजा बनाया।


सुहरावर्दी सिलसिले के बारे में सत्य कथन है-

  1. इन्होंने चिश्ती सिलसिला द्वारा अपनायी गई रीति—रिवाजों का त्याग कर दिया।
  2. वे राजनीति मसलों में भी भाग लेते थे। 
  3. सुहरावर्दी सिलसिला का सामाजिक आधार उच्च वर्ग था। 

  • सुहरावर्दी सूफी सम्प्रदाय की एक प्रमुख शाखा फिरदौसिया थी। इनका मुख्य कार्य क्षेत्र बिहार था और शेख शर्फुद्दीन यह्या इसके प्रसिद्ध विद्वान थे। इन्होंने काफी लिखे जिनको 'मक्तूवात' के नाम से जाना जाता है। 
  • उन्होंने मानवता की सेवा पर जोर दिया था।

कादिरी सिलसिला

  • स्थापना बगदाद के शेख अब्दुल कादिर जिलानी ने 12वीं सदी में की थी।
  • भारत में इस सिलसिले के पहले संत शाह नियामत उल्ला और नासिरुद्दीन महमूद जिलानी थे। 
  • शेख अब्दुल जाकिर फतेहपुर सीकरी के दीवान—ए—आम में नमाज पढ़ते थे जिस पर अकबर ने विरोध किया तो शेख ने उत्तर दिया— 'मेरे बादशाह, यह आपका साम्राज्य नहीं है कि आप आदेश दें।'
  • शाहजहां के ज्येष्ठ पुत्र दाराशिकोह कादिरी सूफी सिलसिले क अनुयायी थे। 
  • उनकी मुलाकात मियां मीर से लाहौर में मुलाकात की थी। 
  • बाद में दाराशिकोह मुल्लाशाह बदख्शी का शिष्य बन गया। 
  • कादिरी सिलसिले का दृष्टिकोण रूढ़िवादी और कट्टर था। वे शासक वर्ग से संबंध रखते थे और राज्याश्रय प्राप्त करते थे। 
  • कादिरी सिलसिले के अनुयायी गाना—बजाना पसंद नहीं करते थे। ये हरे रंग की पगड़ी बांधते थे।

नख्शबंदी सिलसिला

  • इस सिलसिला की स्थापना 14वीं सदी में ख्वाजा वहाउद्दीन नक्शबंद ने की थी। 
  • भारत में इसका प्रचार ख्वाजा वकी बिल्लाह (1563—1603 ई.) ने किया था। 
  • ये लोग सनातन इस्लाम में आस्था रखते थे और पैगम्बर द्वारा प्रतिपादित नियमों का ही पालन करते थे। 
  • यह सिलसिला धर्म में परिवर्तनों का पूर्ण रूप से विरोधी था।
  • ख्वाजा वकी​ बिल्लाह के शिष्यों में शेख अहमद सरहिन्दी प्रमुख थे जिनको मुजद्दिद के नाम से जाना जाता था। उन्होंने बहादतुल वुजूद के सिद्धांत की जगह पर बहादतुल शुहूद (प्रत्यक्षवाद) का सिद्धांत प्रतिपादित किया। 
  • शेख सरहिन्दी के कहना था कि 'मनुष्य और ईश्वर में सम्बन्ध स्वामी और सेवक का है, प्रेमी और प्रेमिका का नहीं।' 
  • शेख सरहिन्दी के पत्रों का संकलन मक्तूवाद—ए—रब्बानी के नाम से प्रसिद्ध है। 
  • उन्होंने शिया सम्प्रदाय तथा दीन—ए—इलाही की आलोचना की।
  • मुगल शासक जहांगीर इनके शिष्य थे। 
  • औरंगजेब के पुत्र 'शेख मासूम' का​ शिष्य बन गया।
  • नक्शबंदी सिलसिले के दूसरे महासंत दिल्ली के वहीदुल्ला (1707—62 ई.) थे। इन्होंने बहादतुल वुजूद और बहादतुल शुहूद के सिद्धांतों को एक—दूसरे में समन्वित कर दिया।
  • अंतिम विख्यात संत 'ख्वाजा मीर दर्द' थे। मीर दर्द ने अपना मत चलाया जिसे 'इल्मे इलाही मुहम्मद' कहते थे। 
  • मीर दर्द उर्दू और फारसी के अच्छे कवि भी थे।

शत्तारिया सिलसिला

  • शत्तारिया सिलसिले के प्रवर्तक शेख अब्दुल्ला शत्तार थे।
  • इस सिलसिले के दूसरे संत शाह मुहम्मद गौस थे। इनके दो प्रसिद्ध ग्रंथ थे— जवाहिर—ए—खस्मा और अबरार—ए—गौसिया।
  • अंतिम प्रसिद्ध संत शाह वजीउद्दीन थे। 

कलन्दरिया सिलसिला

  • सर्वप्रथम संत अब्दुल अजीज मक्की को माना जाता है। इनके शिष्य खिज्ररूमी कलंदर खपरादरी थे। 
  • इनकी वजह से चिश्तिया-कलंदरिया उपशाखा का जन्म हुआ। सैय्यद नजमुद्दीन कलंदर ने इसका खूब प्रचार कियां
  • कुतुबुद्दीन कलंदर अंतिम संत जिन्हें सरंदाज की संज्ञा दी।
  • मदारिया सिलसिले के प्रवर्तक शेख बदीउद्दीनशाह मदार थे। 
सूची—I को सूची—II से सुमेलित कीजिए तथा सूचियों के नीचे दिये गये कूट से सही उत्तर का चयन कीजिये:
सूची—I  सूची—II
A. बहाउद्दीन जकारिया 1. चिश्ती 
B. सैय्यद मोहम्मद जिलानी 2. सुहरावर्दी
C. निजामुद्दीन औलिया  3. कादिरी
D. मोहम्मद गौस 4. शत्तारी 
कूट: 
   A B C D
a. 1 2 3 4
b. 2 1 4 3
c. 2 3 1 4
d. 1 4 3 2
उत्तर- c

Post a Comment

Previous Post Next Post