उत्सर्जी पदार्थ


अमोनिया -
  • अमोनिया, अमीनो अम्ल के विघटन से जिसे डीएमिनेशन कहते हैं, से बनता है। यह अत्यधिक विषैला पदार्थ है जो पानी में घुलनशील है।
  • मूत्र में अमोनिया लवणों के रूप में होती है।
  • अमोनिया का उत्सर्जन अमोनोटेलिक उत्सर्जन कहलाता है।
यूरिया
  • यह अमोनिया से संश्लेषित किया जाता है। यूरिया नाइट्रोजनी उत्सर्जी पदार्थों में सबसे अधिक मात्रा में पाया जाता है।
  • यह अपेक्षाकृत कम विषैला तथा जल में अधिक घुलनशील है। इसके रवे, रंगहीन, गंधहीन लेकिन स्वाद में कडवे होते हैं जो गर्म करने पर बाइयूरेट में बदल जाते हैं।
  • यूरिया के उत्सर्जन को यूरियोटेलिक उत्सर्जन कहते हैं।
  • सभी स्तनधारी, उभयचरों तथा कुछ मछलियों जैसें टिलिओस्ट्स में यूरियोंटेलिक उत्सर्जन होता है।

अमीनो अम्ल
  • भोजन में उपस्थित प्रोटीन, पाचन के फलस्वरूप अमीनों अम्लों में बदल जाता है।
  • इसके उत्सर्जन को अमीनोटेलिक उत्सर्जन कहते हैं।

यूरिक अम्ल
  • शुष्क वातावरण में पाये जाने वाले जन्तुओं में अमोनिया से यूरिक अम्ल बनते हैं। ये जल में अघुलनशील होते हैं। 
  • यह विषैला नहीं होता है।
  • इन्हें यूरिकोटेलिक उत्सर्जन कहते हैं।
  • कुछ जन्तुओं जैसे - छिपकली वर्ग के सदस्य, कीटों सरीसृपों तथा पक्षियों में उत्सर्जित होते हैं। यह ठोस रवों के रूप में उत्सर्जित किया जा सकता है।

ट्राइमेथिल ऐमीन ऑक्साइड 
  • यह कुछ समुद्री मछलियों में उत्सर्जी उत्पाद के रूप में पाया जाता है।

ग्वानिन
  • यह उत्सर्जी उत्पाद केवल मकड़ियों में पाया जाता है। यह बहुत ही कम घुलनशील है।

हिप्यूरिक तथा आर्निथ्यूरिक अम्ल

  • भोजन में उपस्थित बेन्जोइक अम्ल का स्तनधारियों में हिप्यूरिक अम्ल के रूप में तथा पक्षियों में अर्निथ्यूरिक अम्ल के रूप में उत्सर्जन होता है।

क्रिएटिन तथा क्रिएटिनीन उत्सर्जी पदार्थ

Post a Comment

Previous Post Next Post