Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Monday, January 15, 2018

भड़ला सोलर पार्क की स्थापना

भड़ला सोलरपार्क, राजस्थान

  • राजस्थान देश का ऐसा पहला राज्य हैं, जहां वर्ष में 365 दिवसों में से लगभग 325 दिवसों तक सर्वाधिक मात्रा में सूर्य की स्वच्छ किरणें उपलब्ध रहती है।

  • राजस्थान में 5.5-6.5 किलोवॉट प्रतिघंटा/वर्गमीटर/प्रति दिवस सौर विकिरणों तथा पर्याप्त मात्रा में बंजर भूमि की उपलब्धता के कारण यहां पर लगभग 142 गीगावॉट सौर ऊर्जा से विद्युत उत्पादन किया जाना संभव है।
  • राजस्थान के जोधपुर, जैसलमेर तथा बीकानेर जिलों में सौर ऊर्जा से विद्युत उत्पादन हेतु सोलर पार्क्स की स्थापना के लिए सौर ऊर्जा उत्पादकों/निवेशकों का रूझान बढ़ा है।
  • भड़ला में सोलर पार्क की स्थापना हेतु कुल 5782.45 हैक्टयर (फेज-प्रथम 186, फेज-द्वितीय 1797.45, फेज-तृतीय 2469 एवं फेज-चतुर्थ में 1330) सरकारी भूमि एवं सौर विकिरणों की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता के कारण भडला, जिला जोधपुर, राजस्थान को सोलर पार्क विकसित किए जाने हेतु चुना गया है।
  • भड़ला सोलर पार्क की स्थापना चार चरणों में की जा रही है, जिसमें कुल 2255 मेगावॉट क्षमता की सौर परियोजनाएं स्थापित की जावेंगी, जो कि किसी एक स्थान पर स्थापित होने वाले सोलर पार्क की सर्वाधिक क्षमता होगी।

पहला चरण में

  • राजस्थान अक्षय ऊर्जा निगम ने अपनी सहयोगी कम्पनी राजस्थान सोलरपार्क डवलमेन्ट कम्पनी लिमिटेड (आरएसडीसीएल) के माध्यम से 75 मेगावाट क्षमता के भड़ला सोलर पार्क फेज-1 की स्थापना की है। भडला फेज-1 के 75 मेगावाट क्षमता में से 60 मेगावाट क्षमता के कुल 5 प्रोजेक्टस की स्थापना कर चालू किया जा चुका है।

दूसरा चरण

  • राजस्थान सोलर पार्क डवलमेन्ट कम्पनी लिमिटेड (आरएसडीसीएल) द्वारा 680 मेगावाट क्षमता के भड़ला फेज-2 सोलरपार्क को विकसित किया गया है। इस पार्क को नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा सोलरपार्क एवं मेगा सोलर पावर प्रोजेक्टस योजना के अतर्गत स्वीकृत किया गया है।
  • आरएसडीसीएल द्वारा इस पार्क में आधारभूत संरचनाऐं जैसे-सड़क, पानी की व्यवस्था, रोडलाइट 220 केवी के 2 जीएसएस एवं उनसे सम्बधित 220 केवी एवं 132 केवी लाइनों का निर्माण कार्य किया गया है।
  • फेज-2 की कुल क्षमता 680 मेगावट में से मई, 2017 तक 400 मेगावाट क्षमता के सोलर प्रोजेक्टस चालू किये जा चुके हैं तथा शेष 280 मेगावाट के प्रोजेक्टस् जून, 2017 तक चालू होने की संभावना है। भडला फेज-2 की कुल अनुमानित लागत बाह्य प्रसारणतंत्र को छोड़ते हुए लगभग 210 करोड़ रूपये है।

तीसरा चरण

  • 1000 मेगावाट क्षमता के भडला फेज-3 सोलरपार्क की स्थापना मैसर्स सौर्य ऊर्जा कम्पनी ऑफ राजस्थान लिमिटेड (राजस्थान सरकार व मैसर्स आई.एल.एण्ड एफ.एस डवलमेन्ट कम्पनी लिमिटेड की संयुक्त साझेदारी कम्पनी) द्वारा की जा रही है। इस पार्क को नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा सोलरपार्क एव मेगा सोलर पावर प्रोजेक्टस योजना के अतर्गत स्वीकृत किया गया है। इस सोलरपार्क के विकास का कार्य प्रगति पर है। इस पार्क में 500 मेगावाट क्षमता के सोलर पावर प्रोजेक्टस की स्थापना के लिये दो विकासकर्ताओं का चयन सोलर एनर्जी कारपोरेशन द्वारा कर लिया गया है।

चौथे चरण में

  • 500 मेगावाट क्षमता के भडला फेज-4 सोलर पार्क की स्थापना मैसर्स अडानी रिन्युएबल एनर्जी पार्क राजस्थान लिमिटेड (राजस्थान सरकार व मैसर्स अडानी एटरप्राइजेज लिमिटेड की संयुक्त साझेदारी कम्पनी) द्वारा की जा रही है। इस पार्क को नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा सोलरपार्क एवं मेगा सोलर पावर प्रोजेक्टर्स योजना के अतर्गत स्वीकृत किया गया है। इस सोलरपार्क के विकास का कार्य प्रगति पर है। इस पार्क में 250 मेगावाट क्षमता के सोलर पावर प्रोजेक्टस की स्थापना के लिये 3 विकासकर्ताओ का चयन सोलर एनर्जी कारपोरेशन द्वारा कर लिया गया है।
  • भड़ला सोलर पार्क के सभी चार चरणों को वर्ष 2018 तक पूर्ण किया जाना प्रस्तावित है। इसकी क्रियान्विति हो जाने पर कुल 2255 मेगावाट क्षमता सौर ऊर्जा का उत्पादन किया जाना सभंव हो सकेगा।
  • भड़ला सोलर पार्क से उत्पादित सौर ऊर्जा के निस्तारण हेतु बाह्य प्रसारण तंत्र का निर्माण राजस्थान राज्य विद्युत प्रसारण निगम लिमिटेड (RVPNL) तथा पावरग्रिड कारपोरेशन लिमिटेड (PGCIL) द्वारा किया जा रहा है। जिसमें से RVPNL द्वारा 400 केवी ळैै भडला तथा द्विपथीय 400 केवी भडला-बीकानेर लाईन का निर्माण पूर्ण कर चालू कर दिया गया है।

No comments:

Post a Comment

Loading...