राजस्थान बजट 2021-22 की शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण घोषणाएं

 

राजस्थान बजट 2021-22

राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने 24 फरवरी, 2021 को बजट 2021—22 प्रस्तुत किया। जिसके मुख्य अंश निम्न हैं—

शिक्षा के क्षेत्र में घोषणाएं

  • सभी राजकीय माध्यमिक व उच्च माध्यमिक विद्यालयों एवं कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालयों में स्मार्ट टीवी एवं सेटटॉप बॉक्स उपलब्ध कराए जायेंगे।
  • विभिन्न विभागों द्वारा संचालित छात्रावासों एवं आवासीय विद्यालयों में इंटरनेट कनेक्शन फैसलिटी उपलब्ध करवाया जाना प्रस्तावित है
  • ऑनलाइन लर्निंग के लिए प्रदेश के समस्त विश्वविद्यालयों की लाईब्रेरी में फ्री वाईफाई की सुविधा उपलब्ध करवायी जायेगी
  • 5 हजार से अधिक आबादी वाले सभी गांवों एवं कस्बों में अगले 2 वर्षों में अंग्रेजी माध्यम के लगभग 1200 महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय प्रारंभ किये जायेंगे
  • अभिनव पहल के रूप में जिला मुख्यालयों पर स्थित 33 अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों में प्री प्राइमरी कक्षाओं का संचालन किया जायेगा
  • प्रदेश के विज्ञान संकाय वाले 600 राजकीय विद्यालयो में कृषि संकाय खोले जायेंगे
  • प्रदेश में 50 राजकीय विद्यालय खोले जायेंगे एवं 100 राजकीय विद्यालयों को क्रमोन्नत किया जायेगा
  • राजकीय विद्यालयों में चरणबद्ध रूप से बुनियादी सुविधायें विकसित करने हेतु 3500 से अधिक क्लासरूम, लैबोरेट्रीज, पुस्तकालय, आर्ट एवं क्राफ्ट, कम्प्यूटर रूम आदि का निर्माण करवाये जायेंगे 


महात्मा गांधी के विचारों एवं मूल्यों का प्रचार—प्रसार 

  • शांति एवं अहिंसा प्रकोष्ठ को अपग्रेड कर 'शांति एवं अहिंसा निदेशालय' की स्थापना की घोषणा, जिसके तहत— 
  • महात्मा गांधी के जीवन दर्शन को जन—जन तक पहुंचाने तथा जन सामान्य में पढ़ने की रुचि बढ़ाने के उद्देश्य से वर्तमान में संचालित 8870 पुस्तकालयों को बढ़ाकर 14,970 किया जायेगा
  • विद्यार्थियों में गांधीजी के विचारों एवं मूल्यों के प्रसार हेतु सर्वोदय विचार परीक्षा का आयोजन, इस कार्य को करने वाले एनजीओ से समन्वय कर किया जायेगा।
  • अब भविष्य में किसी भी प्रकार की छात्रवृत्ति व अन्य मेरिट आधारित प्रोत्साहन हेतु छात्र—छात्राओं को यह परीक्षा उत्तीर्ण करना आवश्यक होगा
  • युवाओं को महात्मा गांधी की शिक्षा को आत्मसात करते हुए गवर्नेंस तथा सामाजिक कार्यों में अपनी भूमिका निभाने के लिए तैयार करने के उद्देश्य से 'महात्मा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ गवर्नेंस एण्ड सोशियल साइंसेज' की स्थापना की घोषणा की


  • वर्तमान में प्रदेश के 9 शैक्षिक संभागों में से 3 संभागों — बीकानेर, उदयपुर एवं जयपुर में विशेष योग्यजन विद्यार्थियों हेतु आवासीय विद्यालय संचालित हैं 
  • वर्ष 2021—22 में शेष सभी शैक्षिक संभागों — कोटा, अजमेर, जोधपुर, पाली, चूरू एवं भरतपुर में विशेष योग्यजन वाले आवासीय विद्यालयों की स्थापना की जायेगी।
  • उच्च शिक्षा के क्षेत्र में मूक—बधिरों को समुचित अवसर प्रदान करने के लिए गांधी बधिर उच्च माध्यमिक विद्यालय, माता का थान (जोधुपर) एवं पोद्दार मूक बधिर उच्च माध्यमिक विद्यालय (जयुपर) में विशेष योग्यजन विद्यार्थियों हेतु दो नवीन महाविद्यालय बनाए जायेंगे
  • गांधी बधिर उच्च माध्यमिक विद्यालय, माता का थान (जोधपुर) एवं पोद्दार मूक बधिर उच्च माध्यमिक विद्यालय (जयपुर) में विशेष योग्यजन विद्यार्थियों हेतु दो नवीन महाविद्यालय बनाए जायेंगे
  • राजा रामदेव पोद्दार राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, जयपुर को अंग्रेजी माध्यम में रूपान्तरित कर, शिक्षा के क्षेत्र में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के रूप में स्थापित किया जायेगा
  • प्रदेश के 37 हजार 400 आंगनबाड़ी केन्द्रों तथा अंग्रेजी माध्यम के 134 स्वामी विवेकानंद राजकीय मॉडल विद्यालयों में प्री-प्राइमरी के बच्चों के लिए 225 करोड़ रुपये की लागत से चाइल्ड फ्रेंडली फर्नीचर उपलब्ध करवाया जाएगा 
  • जयपुर में 200 करोड़ रुपये की लागत से Rajasthan Institute of Advanced Learning की डीम्ड यूनिवर्सिटी के रूप में स्थापना की जायेगी।
  • जयपुर में लगभग 200 करोड़ रुपये की राशि से Rajiv Gandhi Center of Advance Technology (R-CAT) स्थापित किया जायेगा।
  • प्रदेश के लगभग 1 हजार 500 राजकीय विद्यालयों के कक्षा 7 से 12 तक के विद्यार्थियों में वैज्ञानिक गतिविधियों के प्रोत्साहन के लिए साइंस एंड स्पेस क्लब खोले जायेंगे, इनमें नासा के सहयोग से एस्टेरॉइड खोज अभियान भी चलाया जायेगा।

उच्च शिक्षा

Rajiv Gandhi Center of Advance Technology (R-CAT) की स्थापना की जाएगी

बजट में युवाओं को नवीनतम आई.टी टैक्नोलॉजी जैसे आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, मशीन लर्निंग, रोबोटिक्स एवं वर्चुअल रियलिटी में सर्टिफिकेट कोर्स तथा मल्टी डिसीपिलीनरी रिसर्च कराने के साथ आमजन को आकर्षक रूप से इन तकनीकों की जानकारी कराने के लिए जयपुर में लगभग 200 करोड़ रुपये की राशि से 'राजीव गांधी सेंटर ऑफ एडवांस टैक्नोलॉजी' (आर-सीएटी) स्थापित करने की घोषणा की गई है। 


'विद्या संबल योजना'


  • विभिन्न विभागों द्वारा संचालित शिक्षण संस्थानों, विद्यालयों, महाविद्यालयों, आवासीय विद्यालयों एवं छात्रावासों में विषय विशेषज्ञ अनुभवी व्यक्तियों को गैस्ट फैकल्टी के रूप में देने के लिए 'विद्या संबल योजना' लागू की जायेगी। 


फिनटेक डिजीटल यूनिवर्सिटी स्थापित करने की घोषणा


  • जोधपुर में 400 करोड़ रुपये की लागत से Fintech Digital University स्थापित की जायेगी। जिसमें School of Computer Science and IT, Finance and Accounting, Data Analytics and Analytical Mathematics की स्थापना की जायेगी। इसके तहत प्राइवेट सेक्टर के कोलाबोरेशन से विभिन्न लेटेस्ट टैक्नोलॉजी आधारित कोर्स उपलब्ध करायें जायेंगे। 
  • जयपुर में 200 करोड़ रुपये की लागत से राजस्थान इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस लर्निग की डीम्ड यूनिवर्सिटी के रूप में स्थापना की जायेगी। 
  • निम्बार्क तीर्थ-अजमेर, सुल्तानिया, विमलपुरा (फागी), जोधराला (जमवारामगढ़) - जयपुर, पावटा (महुवा) - दौसा टोडाभीम-करौली, दलोट, प्रतापगढ़ व शिवाजी नगर (किशनगढ़) अजमेर के संस्कृत विद्यालयों को क्रमोन्नत करने की घोषणा की है। संस्कृत विद्यालय सैदपुरा (नदबई) - भरतपुर में संस्कृत महाविद्यालय बनाया जायेगा। साथ ही, बांसवाड़ा में 25 करोड़ रूपये की लागत से वेद विद्यापीठ की स्थापना भी प्रस्तावित है।



Post a Comment

Previous Post Next Post