गुप्तकाल महत्त्वपूर्ण परीक्षोपयोगी तथ्य



  • गुप्तकाल में 'कुमारामात्य' सबसे प्रमुख अधिकारी होते थे।
  • गुप्तकाल में सती प्रथा की प्रथम घटना का उल्लेख ए​रण अभिलेख में मिलता है।
  • 'भगवद्गीता' की रचना गुप्तकाल में हुई।
  • अजंता की गुफाओं के चित्र गुप्त युग की चित्रकला के सर्वोत्तम उदाहरण है।
  • विष्णु शर्मा द्वारा पंचतंत्र और नारायण भट्ट द्वारा हितोपदेश की रचना की गई।
  • संस्कृत साहित्य में कालिदास ने कुमारसंभव, मेघदूत, अभिज्ञानशाकुंतलम्, मालविकाग्निमित्र आदि की रचना की।
  • विशाखदत्त की मुद्राराक्षस, देवी चन्द्रगुप्तम्, भट्टी का रावण वध, शूद्रक का मृच्छकटिकम्, सुबंधु की वासवदत्ता व दण्डी की दशकुमार चरित इस युग में लिखे गए उच्च कोटि के साहित्य के उदाहरण है।
  • दशमलव तथा शून्य का अन्वेषण गुप्त युग में हुआ।
  • आर्यभट्ट गुप्त युग के गणितज्ञ एवं खगोलशास्त्री थे। इन्होंने 'आर्यभटीय' नामक ग्रंथ की रचना की जिसमें अंकगणित, बीजगणित तथा रेखागणित की विवेचना की गई है।
  • आर्यभट्ट ने 'सूर्यसिद्धांत' नामक ग्रंथ में यह सिद्ध किया कि पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमती है।
  • वराहमिहिर ने 'वृहत्संहिता' एवं 'पंचसिद्धां​तिका' नाम के खगोलशास्त्र के ग्रंथों की रचना की।
  • ब्रह्मगुप्त ने 'ब्रह्म सिद्धांत' भी इसी काल का खगोलशास्त्र का प्रसिद्ध ग्रंथ हैं 'शप्तपंचसिका, वशिष्ठ सिद्धांत' जैसे उच्चकोटि के ग्रंथ इसी युग में रचे गए।
  • धनवंतरी तथा सुश्रुत इस युग के प्रख्यात वैद्य थे।
  • 'नवनीतकम्' इस युग की प्रसिद्ध चिकित्सा पुस्तक है।
  • 'हस्त्यायुर्वेद' व 'अश्वशास्त' पशु चिकित्सा संबंधी पुस्तकें हैं जो गुप्त काल में ही लिखी गई।
  • प्रसिद्ध आयुर्वेदाचार्य धनवंतरी ने 'रसचिकित्सा' नामक पुस्तक की रचना की तथा सिद्ध किया कि सोना, चांदी, लोहा, तांबा धातुओं में रोग निवारण की शक्ति विद्यमान है।


Post a Comment

0 Comments