राजस्थान की खनिज सम्पदा

प्रमुख खनिज पदार्थ

लौह अयस्कः
जयपुर- मोरीजा-बानोल
दौसा- मोआण्डा
झुंझुनूं- डाबला-सिंघाना
उदयपुर- नाथरा की पाल, थूर हुण्डेर

मैगनीजः
बांसवाडा- सागवा, लीलावानी, कालाबूंटा
उदयपुर - नैगडिया, स्वरूपपुरा, रामौसण

कोयलाः
लिग्नाइट प्रकार का
बीकानेर- पलाना, गुढा, बरसिंगसर, नायासर
नागौर- मेडता रोड
बाडमेर- कपूरडी और जालिपा, गिरल
कपूरडी, बरसिंगसर, पलाना तथा गिरल में लिग्नाइट आधारित ताप विद्युत परियोजनाएं स्थापित की गई है।

बेरेलियमः 
उदयपुर- शिकारबाडी, गुढा, रानआमेटा
जयपुरः गजरवाड, बान्देसीन्दरी
भीलवाडाः देवडा, तिलोली

यूरेनियमः 
भीलवाडाः जहाजपुर, देवली (टोंक)
बूंदी: हिण्डौली पहाडी क्षेत्र
वर्तमान में उत्पादन डूंगरपुर बांसवाडा में

बैराइट्स
उदयपुर - जगतपुर (सबसे बडा भंडार)
अलवर- राजगढ, रींगसपुरा, झारोली

इमारती पत्थरः
प्रथम स्थान।
राजस्थान में जोधपुर, कोटा, चित्तौडगढ, बीकानेर में।
जालौर में गुलाबी रंग का ग्रेनाइट
अजमेर में बांदनवाडा के पास शमालिया गांव में काले ग्रेनाइट के भंडार मिले
जोधपुरः लाल, जैसलमेर: पीला
धौलपुरः रेड डायमंड, करौलीः मेहरून
अलवरः स्लेटी, कोटाः कोटा स्टोन

टंगस्टनः वुल्फ्रेमाइट 
- नौगार जिले के डेगाना के निकट भाकरी गांव में रेव पहाडी प्रमुख उत्पादक क्षेत्र है। सेवरिया, पीपलिया, बीजाथल।
सिरोही: वाल्दा गांव राजस्थान राज्य टंगस्टन विकास निगम
तांबाः झारखंड के बाद राजस्थान दूसरा
झुंझुनूं: खेतडी-सिंघाना देश की सबसे बडी खान
अलवर: प्रतापगढ, खो दरीबा।
उदयपुरः देलवाडा, केरावली, देबारी
खेतडी में हिन्दुस्तान कॉपर लिमिटेड स्थित है।

अभ्रकः 
झारखंड, आंध्रप्रदेश, राजस्थान
भीलवाडाः टूंका, प्रतापपुरा, शाहपुरा
उदयपुरः चम्पागुढा, धोलमेतरा, गालवा
जयपुरः बंजारीखान
टोंकः शंकरवाडा, बारोनी

फैल्सपारः
अभ्रक के साथ सह-उत्पाद के रूप में
अजमेरः मकरेश से राज्य का 96 प्रतिशत

फ्लोराइटः
सिरेमिक उद्योग, डूंगरपुर में मांडो की पाल

घीया पत्थरः स्टेटाइट 
-उदयपुर में सबसे अधिक देवपुरा लोहार गढ, जाथरा की पाल, ऋषभदेव
दौसाः डागोथा
भीलवाडाः धेवरिया चांदपुरा

रॉक-फॉस्फेट

उपयोगः मुख्य रूप से फॉस्फेट खाद का कच्चा माल है।
यह अम्लीय भूमि को उपजाऊ बनाने के लिए प्रयुक्त किया जाता है।
प्रमुख उत्पादक क्षेत्र
उदयपुर क्षेत्र रॉक फॉस्फेट के उत्पादन में अग्रणी है।
उदयपुर के झामर-कोटड़ा तथा खार-बारियान, मातूनख् कानपुरख् डोल्कीपाती, धकन कोटड़ा आदि।
झामर-कोटड़ा से देश का सर्वाधिक 90 प्रतिशत रॉक-फॉस्फेट का उत्पादन होता है।
जैसलमेर - फतेहगढ़ तथा बिरमानिया
जयपुर- अचरोल
अलवर- आडुका-अण्डावारी
सीकर- करपुरा
पाइराइट
सीकर के सलादीपुरा में।

राजस्थान में सर्वाधिक जिप्सम भंडार अवस्थित है?
अ. जामसर, बीकानेर में
ब. बीरमानिया, जैसलमेर में
स. कानपुर, उदयपुर में
द. सॉलोपेट, बांसवाड़ा में
उत्तर- अ

निम्न में से कौन सा युग्म गलत हे?
अ. पेट्रोल - भाग्य शक्ति (बाड़मेर)
ब. कोयला - पलाना (बीकानेर)
स. पेट्रोल - घोटारू (जैसलमेर)
द. कोयला - बरसिंगसर (बाड़मेर)
उत्तर- स

निम्नलिखित में से कौन-सा युग्म गलत है?
खनिज प्रमुख खानें
अ. सीसा-जस्ता राजपुरा दरीबा
ब. लौह-अयस्क डाबला क्षेत्र
स. तांबा लीलवानी
द. रॉक फॉस्फेट झामर कोटडा
उत्तर- स
राजस्थान में कितने प्रकार के खनिज मिलते हैं-
(अ) 44 प्रकार के (ब) 67 प्रकार के
(स) 23 प्रकार के (द) कोई नहीं
उत्तर- ब

सीसा-जस्ता उत्पादन की सबसे बड़ी खान है-
(अ) देबारी     (ब) अलवर
(स) खो-दरीबा  (द) उपर्युक्त सभी
उत्तर- अ

टंगस्टन का जिले से उत्पादन होता है-
(अ) अजमेर (ब) नागौर
(स) भीलवाड़ा (द) सिरोही
उत्तर- ब


Post a Comment

0 Comments