न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें

न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें
9.71 करोड़ में बिका यह कबूतर, आखिर क्या खूबी है इसकी

Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Saturday, December 1, 2018

चारों आश्रमों की चर्चा मिलती है


कुछ महत्त्वपूर्ण तथ्य
  • मैत्रायणी उपनिषद में चार आश्रमों एवं त्रिमूर्ति की चर्चा है।
  • श्वेताश्वतर उपनिषद में परमात्मा को रुद्र बताया गया है।
  • मैत्रायणी संहिता में स्त्री की गणना मद्य एवं जुए के साथ की गयी है।
  • अथर्ववेद में चिकित्सा एवं औषधि विज्ञान की चर्चा हे।
  • ऐतरेय ब्राह्मण में पुत्री को सभी दुःखों का स्रोत बताया गया है।
  • जाबलि उपनिषद में चारों आश्रमों की चर्चा मिलती है।
  • वृहदारण्यक उपनिषद में पुनर्जन्म की अवधारणा का उल्लेख ह।
  • काठक संहिता में क्षत्रिय को ब्राह्मण से श्रेष्ठ बताया गया है।
  • ऐतरेय ब्राह्मण में स्पष्ट रूप से बहुपतित्व का निषेध किया गया है।
  • ऐतरेय ब्राह्मण में राजा की उत्पत्ति सम्बन्धी नियमों की चर्चा है।
  • वेदों को आर्यों ने अपौरुषेय कहा है।
  • शुक्ल यजुर्वेद को वाजसनेयी संहिता भी कहा जाता है।
  • यजुर्वेद के प्रमुख देवता प्रजापति है।
  • मुण्डकोपनिषद में छह वेदांगों की चर्चा है।
  • मैत्रायणी संहिता में धनी शूद्रों का उल्लेख है।
  • वृहदारण्यक उपनिषद में विदुषी पुत्री के जन्म की कामना हेतु एक विशेष धर्मानुष्ठान की चर्चा मिलती है।
  • ऋग्वेद में नियोग के साक्ष्य मिलते हैं।
  • ऋग्वेद में उपनयन संस्कार का स्पष्ट उल्लेख नहीं है।

प्रमुख स्मृतियां
  • मनु स्मृति:- यह सबसे प्राचीन स्मृति है। इसका काल 200 ई.पू. से 200 ई. है।
  • याज्ञवलक्य स्मृति:- 10 से 300 ई.
  • नारद स्मृति:- 300-400 ई.
  • पराशर स्मृति:- 300-500 ई.
  • बृहस्पति स्मृति:- 300-500 ई.
  • कात्यायन स्मृति:- 400-600 ई.
  • देवल स्मृति।

प्राचीन काल में विभिन्न स्थलों से उत्पादित वस्तुएं
स्थल  उत्पादित वस्तुएं

  • बंगाल                     मलमल
  • मगध  पौधे के रेशों से बने वस्त्र
  • विदर्भ, कलंग, कश्मीर      हीरा
  • पंजाब                        नमक
  • हिमालय के ढलान वाले क्षेत्र  केसर, कस्तूरी
  • दक्षिण भारत मसाले, सोना, चंदन की लकड़ी, रत्न
  • राजस्थान।               तांबा


No comments:

Post a Comment

मोनाजाइट किसका अयस्क है

सिरका एसिटिक अम्ल का जलीय विलयन है। थर्माकोल को कृत्रिम रबड़ कहा जाता है।  कपूर को उर्द्धपातन विधि द्वारा शुद्ध किया जाता है। ‘त्रिक ...

Loading...