न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें

न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें
9.71 करोड़ में बिका यह कबूतर, आखिर क्या खूबी है इसकी

Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Sunday, December 16, 2018

अंतर्दर्शन विधि

आत्मनिष्ठ या व्यक्तिनिष्ठ -

1. आत्मकथा या अर्न्तदर्शन विधि:-
  • विलियम वुण्ट व शिष्य टिचनर इसके प्रवर्तक है।
  • यह एक प्राचीनतम विधि है।
  • यह एक मनोवैज्ञानिक विधि नहीं है इसके कारण इनका वर्तमान समय में उपयोग नही किया जाता हैं।
व्यक्ति इतिहास विधि/जीवनकृत विधि/ केस स्टेडी विधि:-
  • टाइडमैन इसके प्रवर्तक है।
  • निदानात्मक अध्ययनों की सर्वश्रेष्ठ विधि हैं।
  • असामान्य बालकों के निदान की सर्वश्रेष्ठ विधि हैं।
  • समस्या के कारण को जानना निदान कहलाता हैं।
  • जो मनोविज्ञान की सहायता से किया जाता है तथा कारण को द ूर करना उपचार कहलता है जो शिक्षा की सहायता से किया जाता है।
  • बिना निदान के उपचार सम्भव नही हैं।
प्रश्नावली विधि:-
  • वुडवर्थ द्वारा
  • प्रश्नावली में आमने-सामने होना जरूरी नही होता और उत्तर के रूप में विकल्प होते हैं।
साक्षात्कार विधि:-
  • साक्षात्कार विधि का प्रारम्भ अमेरिका में हुआ।
  • साक्षात्कार में आमने-सामने होना जरूरी नहीं होता है।
  • इसमें प्रश्नों का कोई बंधन नही होता है व ना ही समय पर।
  • साक्षात्कार वार्तालाप का एक रूप माना जाता है।

वस्तुनिष्ठ विधियां:-

निरीक्षण विधि या बहिदर्शन विधि:-
  • वाटसन इसके प्रवर्तक हैं।
  • इस विधि में सामने वाले व्यक्ति के व्यवहार का भिन्न-भिन्न परिस्थितियों का अध्ययन किया जाता है और निष्कर्ष निकाला जाता है कि विषयी का व्यक्तित्व कैसा हैं।
समाजमिति विधि:-
  • प्रवर्तक - जे.एल. मोरेना
  • इस विधि में व्यक्ति की सामाजिकता के बारे में समाज के व्यक्तियों से जानकारी लेकर निष्कर्ष निकाला जाता हैं कि विषयी का व्यक्तित्व कैसा हैं।

No comments:

Post a Comment

भारत ने किया 'RISAT-2B' उपग्रह का सफल प्रक्षेपण

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने एक ओर कामयाबी 22 मई को तब दर्ज की, जब उसने हर मौसम में काम करने वाले रडार इमेजिंग निगरा...

Loading...