न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें

न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें
9.71 करोड़ में बिका यह कबूतर, आखिर क्या खूबी है इसकी

Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Monday, November 5, 2018

गंगनहर

राजस्थान की पहली सिंचाई परियोजना

राजस्थान में सिंचाई एवं नदी घाटी परियोजनाएं
सिंचाई के प्रमुख साधन - 

  1. नलकूप व कुआं - 66 प्रतिशत,
  2. नहर - 31 प्रतिशत, 
  3. तालाब-12 प्रतिशत,
  4. अन्य साधन - 1.4 प्रतिशत। 
  • कुओं व नलकूपों से सर्वाधिक सिंचाई जयपुर जिले में होती है।
  • नहरों द्वारा सर्वाधिक सिंचाई गंगानगर जिले में होती है।
  • तालाबों द्वारा सर्वाधिक सिंचाई भीलवाड़ा जिले में की जाती है।
  • राज्य में झरनों में सर्वाधिक सिंचाई बांसवाड़ा जिले में होती है।
  • राजस्थान में सर्वाधिक सिंचाई क्रमशः गंगानगर व हनुमानगढ़ जिलों में तथा न्यूनतम राजसमंद जिले में होती है।
  • सिंचित क्षेत्रों के प्रतिशत के आधर पर चुरू जिले में सबसे कम सिंचित क्षेत्रफल है
गंग नहर 

  • 26 अक्टूबर, 1927 को बीकानेर में तत्कालीन महाराजा श्री गंगासिंह ने गंगनहर का निर्माण करवाया था।
  • यह नहर फिरोजपुर (पंजाब) के हुसैनीवाला नामक स्थान से सतलज नदी से निकलती है। 
  • गंगनहर की कुल लम्बाई 292 किमी. है। गंगानगर जिले में खक्खा के पास प्रवेश करती है। 

इसकी मुख्य शाखाएँः 

  • लक्ष्मीनारायण जी, लालगढ करणजी और समिया। 
  • यह नहर गंगानगर को सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराती है। 

गंगनहर लिंक चैनल - 

  • गंगनहर लिंक चैनल का उदगम हरियाणा में लोहागढ़ नामक स्थान से होता है। साधुवाली के निकट गंगनहर लिंक चैनल को गंगनहर से जोड़ा गया है। 
  • इसकी लम्बाई 80 किमी है। 
  • लिंक चैनल के निर्माण का उद्देश्य जर्जर हो चुके गंगनहर के पुननिर्माण के दौरान श्रीगंगानगर जिले में सिंचाई एवं पीने के पानी आवश्यकता पूरा करना है।

No comments:

Post a Comment

कॉम्पिटीशन हेराल्ड क्विज में भाग लीजिए और जीतिए एक पुस्तक फ्री उपहार में

कॉम्पिटीशन हेराल्ड द्वारा अब हर हफ्ते फेसबुक के माध्यम से एक प्रतियोगी परीक्षा करवायी जाएगी। जिसमें पांच या अधिक प्रश्न होंगे। आपको सभी...

Loading...