Friday, November 23, 2018

जब डिजिटल हो जमाना, तो फिर क्यों अखबारों को अजमाना


माना पैसा जरूरी है, पर हमारे लिए क्वालिटी।
  • दिवांशु सामान्य अध्ययन एक शिक्षा के क्षेत्र में निःशुल्क सेवा का केन्द्र है। जहां पर कम्पीटिशन और कॉलेज स्तर की पढ़ाई के लिए विषय-वस्तु उपलब्ध करवाई जाती है जो लगभग विभिन्न पुस्तकों से पढ़कर सही और प्रमाणिक होती है। फिर भी यदि कोई गलती रहती है तो आप सभी विद्यार्थियों से अनुरोध है कि कोई गलती या अशुद्धि दिखाई दे तो हमारे कमेंट्स बॉक्स में जरूर शेयर करें।
  • यह सत्य है कोई भी संस्था बिना पैसों के काम नहीं कर सकती है क्योंकि उसकी आजीविका का स्रोत वही संस्था या कम्पनी होती है। divanshugs की भी आय का स्रोत यह ब्लॉग है जिस पर मैं मेहनत करता हूं ताकि कोई परीक्षार्थी सफल हो सके।
  • मेरा सभी कॉलेज, कोचिंग संस्थानों व बुक पब्लिशिंग हाउस वालों से अनुरोध है कि वे अपने संस्थानों का डिजिटल विज्ञापन के माध्यम से प्रचार करवाना चाहते हैं तो हमारा ब्लॉग इसके लिए एक बड़ा माध्यम बन सकता है। 
  • इस ब्लॉग पर डेली एक हज़ार से अधिक पेज व्यूव है और हिन्दी माध्यम के छात्र-छात्राओं में अपनी लेखन शैली के माध्यम से पकड़ मजबूत बना रहे हैं।
  • ब्लॉग पर अब हर महीने विजिटरों की संख्या में प्रतिदिन बढ़ोतरी हो रही है। अतः अब हमारी योजना है कि लोकल विज्ञापन भी दें। जिससे विज्ञापन दाता को भी अपने व्यवसाय में मुनाफा हो सके बड़े विज्ञापन कंपनियों की लूट से बचे। कई बार बड़ी रकम देकर भी अच्छे परिणाम नहीं मिल पाते हैं। 

क्यूँ दे विज्ञापन हमारे ब्लॉग पर -

  • सस्ते और प्रभावी मार्केटिंग। 

हमारे ब्लॉग पर विज्ञापन दरें इस प्रकार हैं -

  • हैडर एड़ - रु 2000 हज़ार प्रतिमाह
  • साइड एड़ - रु 700 प्रतिमाह 

  • अखबारों में विज्ञापन देना यानि पैसे बेकार खोना। वो भी जरा सी जगह में इतनी गिचपिच कि आपकी कोचिंग, बुक या किसी अन्य एड पर गौर से पढ़ने वाले ही पहुंचते हैं। 
  • अरे भई जब जमाना हो डिजिटल का, तो फिर क्यों करे पैसे बर्बाद अखबारों में। जी हाँ अब divanshugs पर अपने विज्ञापन पूरे देश के प्रतियोगी परीक्षार्थियों तक पहुंचाएं, वो भी सस्ती दरों में।
  • सस्ती दरों में पूरे महीने, आपका विज्ञापन भी दिखा और व्यवसाय भी बढ़ा। 
  • अगर आप चाहे तो अपने संस्थान, बुक का हिन्दी में उसकी विशेषताओं की बड़े लेख के माध्यम से ब्लॉग लिखकर हमारी साइट पर छाप सकते हैं। 


No comments:

Post a Comment

Loading...