न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें

न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें
कान फिल्म फेस्टिवल में दिखा नायिकाओं के हुस्न के जलवे

Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Saturday, August 11, 2018

भारत की स्वतंत्रता पूर्व के दशक में देशी रियासतों के प्रजामंडल आंदोलन का क्या महत्त्व था?


  • राष्ट्रीय आंदोलन का प्रभाव देशी रियासतों की जनता पर भी पड़ा। देशी रियासतों के अत्याचारों से मुक्ति पाने एवं राष्ट्र की स्वतंत्रता के लिए रियासतों की जनता ने भी संगठन बनाने प्रारंभ कर दिये। 
  • उदाहरणस्वरूप, प्रजा के हितों के लिए बड़ौदा में ‘प्रजामंडल’ की स्थापना की गयी। इसी प्रकार के संगठन अन्य राज्यों में भी बने। 1927 ई. में अखिल भारतीय प्रजा सभा की स्थापना हुई। इसने प्रजा के अधिकारों की रक्षा के लिए संघर्ष किया। 
  • प्रजा के सचिव श्री बलवंत राय मेहता के योग्य नेतृत्व में इसने देशी रियासतों में जन-संघर्ष को आगे बढ़ाया और देशी राज्यों में भी राजनीतिक व्यवस्था लागू करने की मांग की। 
  • 1939 में पं. जवाहरलाल नेहरू अखिल भारतीय प्रजा सभा के अध्यक्ष बने। इसके पश्चात् देशी राज्यों में स्वाधीनता आंदोलन को तेजी मिली।


No comments:

Post a Comment

गुप्त साम्राज्य: आर्थिक स्थिति, कला, साहित्य एवं विज्ञान

240 ई से 550 ई. तक गुप्त साम्राज्य का उदय तीसरी शताब्दी के अन्त में हुआ था। विष्णु पुराण, वायु पुराण और भागवत पुराण से ज्ञात होता है ...

Loading...