न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें

न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें
9.71 करोड़ में बिका यह कबूतर, आखिर क्या खूबी है इसकी

Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Tuesday, April 17, 2018

हिन्दुस्तानी गायन शैली


  • हिन्दुस्तानी संगीत में प्रचलित प्रमुख गायन शैलियां निम्न हैं -
ध्रुपद-
  • ध्रुपद के चार खंड होते हैं - स्थायी, अंतरा, संचारी और आभोग।
  • इसकी भाषा में ब्रजभाषा की प्रधानता होती है।
  • ध्रुपद में प्राचीन शास्त्रों को आधार मानकर ईश्वर तथा राजाओं की प्रशस्ति व गुण वर्णन, पौराणिक आख्यान, देवदासियों की लीला आदि को विषयवस्तु बनाकर गायन किया जाता है।
  • तीव्रा, चौताल, सूल, धमार आदि ध्रुपद शैली में गाये जाने वाले राग हैं।
ख्याल
  • ख्याल के दो खंड होते हैं - स्थायी एवं अतंरा।
  • ख्याल की भाषा ब्रजभाषा, राजस्थानी, पंजाबी या हिंदी होती है।
  • ख्याल के प्रमुख गायक सदारंग, अदारंग, मनरंग, मुहम्मद शाह रंगीला, कुमार गंधर्व है।
ठुमरी
  • पूर्वी शैली, पंजाबी शैली पहाड़ी शैली ठुमरी गायन की तीन शैलियां है।
  • ठुमरी को लखलऊ तथा बनारस में अधिक गाया जाता है।
  • ठुमरी की विषय-वस्तु राधा-कृष्ण की केलिक्रीड़ा एवं नायक-नायिका के रसपूर्ण श्रृंगार की अभिव्यक्ति आदि है।
  • यह एक भावप्रधान तथा चपल चाल वाला श्रृंगार प्रधान गीत है।
  • इसमें कोमल शब्दावली तथा कोमल रागों का प्रयोग होता है।
तराना
  • इस शैली का प्रारम्भ अमीर खुसरो ने किया था।
  • यह एक कर्कश प्राकृतिक राग है।
  • कुछ संगीत विद्वान इसे अरबी और फारसी का ही एक खंड मानते हैं तो कुछ का मानना है कि यह तबला और सितार के अधीन से उत्पन्न हुआ है।
टप्पा
  • टप्पा का तात्पर्य उछल-कूद से है, जो एक गायन शैली की चंचलता, लच्छेदार गान आदि की उपस्थिति को इंगित करता है।
  • यह एक कठिन तथा सूक्ष्म गायन शैली है, जिसकी उत्पत्ति पंजाब को पहाड़ी भागों में हुई।
  • इसके विकास में शोरी मियां तथा उनके शिष्यों मियां गम्मू और ताराचंद का योगदान उल्लेखनीय है।
  • यह हिंदी मिश्रित पंजाबी भाषा का श्रृंगार प्रधान गीत है।
धमार
  • धमार दो प्रकार के होते हैं- प्रकाश और गुप्त।
  • यह श्रृंगार रस प्रधान तथा लय प्रधान शैली का गायन है।
  • इसमें सबसे पहले वैष्णव संतों द्वारा रचित विशिष्ट पद गाये जाते हैं।
गजल
  • गजलों का जनक ‘मिर्जा गालिब’ को माना जाता है।
  • इसमें विशेष रूप से उर्दू भाषा में लिखित रचना को गाया जाता है, परंतु वर्तमान में हिंदी में भी गजलें लिखने की परम्परा चल रही है।
  • इसमें गालिब, जफर, साहिर लुधियानवी, कैफी आजमी आदि प्रसिद्ध शायरों की रचनाओं को गाया जाता है।



No comments:

Post a Comment

मोनाजाइट किसका अयस्क है

सिरका एसिटिक अम्ल का जलीय विलयन है। थर्माकोल को कृत्रिम रबड़ कहा जाता है।  कपूर को उर्द्धपातन विधि द्वारा शुद्ध किया जाता है। ‘त्रिक ...

Loading...