Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Wednesday, January 10, 2018

मुगल साम्राज्य

मुगल साम्राज्य
बाबर 1526-30

  • जहीरूद्दीन मुहम्मद बाबर, जन्मः 14 फरवरी 1483 ई., मध्य एशिया में स्थित फरगना के शासक उमर शेख मिर्जा के यहां ।
  • पिता तैमूरलंग की पांचवी पीढी के तुर्की जाति का चगताई वं से था, वही माता कुतलुग निगारखानम चंगेज खां की चौदहवीं पीढी से थी।
  • 1494 में फरगना का 11 वर्ष की आयु में शासक बना।
  • राज्याभिषेक दादी ‘ऐसान दौलता बेगम’ के सहयोग से।
  • पैतृक राज्य समरकंद पर अधिकार 1496 व 1501 ई. में
  • बाबर ने 1504 में काबुल पर अधिकार कर लिया और उसने 1507 में ‘पादशाह’ की उपाधि धारण की, पादशाह से पूर्व बाबर ‘मिर्जा’ की पैतृक उपाधि धारण करता था।
  • 1507 में कंधार व हेरात जीता, उजबेगों से तुलुगमा का प्रयोग सीखा।
  • बाबर ने अपनी आत्मकथा ‘बाबरनामा’ में केवल पांच मुस्लिम शासकों - बंगाल, दिल्ली, मालवा, गुजरात एवं बहमनी राज्यों तथा दो हिन्दू शासकों - मेवाड में राणा सांगा एवं विजयनगर में कृष्णदेव राय का ही उल्लेख किया है।

भारत पर आक्रमण के कारण

  • मध्य एशिया के अन्य आक्रमणकारियों की तरह बाबर भी भारत की अपार धन संपदा के कारण आकृष्ट हुआ था।
  • बाबर तैमूर का वंशज होने के कारण भारत के पंजाब प्रान्त पर अपना पैतृक अधिकार समझता था।
  • काबुल पर उजबेगों के आक्रमणों का खतरा मंडराता रहता था। अतः मुसीबत में शरण लेने व उजबेगों के विरूद्ध सैनिक कार्यवाही करने के लिए भारत सुरक्षित स्थान था।
  • काबुल एक छोटा सा प्रदेश था तथा उपजाऊ भी नही था। उसकी आमदनी भी सेना की जरूरतें पूरी करने के लिए पर्याप्त नही थी।
  • भारत की राजनैतिक परिस्थितियां भी बाबर के आक्रमण के लिए उपयुक्त थी। पंजाब के सूबेदार दौलत खां ने भी बाबर को भारत आने के लिए।

बाजौरः- बाबर का भारत पर पहला आक्रमण 1519 में।

  • युसूफजाई जाति के विरूद्ध, फिर उसने ‘भेरा’ के किले झेलम नदी के किनारे, को भी जीता था।
  • बाबर ने अपनी आत्मकथा में कहा है कि इस किले ‘भैंरा’ को जीतने में उसने सर्वप्रथम बारूद अर्थात् तोपखाने का प्रयोग किया था।
  • द्वितीय 1519 में पेशावर पर विजय की।
  • 1520 में स्यालकोट व सैयदपुर पर विजय की।
  • लौहार व दीपालपुर 1524 ई.,
  • पंजाब सूबेदार दौलत खां लोदी ने अपने पुत्र दिलावर खां को बाबर के पास सहायता के लिए भेजा।

पानीपत का प्रथम युद्ध 21 अप्रैल 1526 ई.

  • दिल्ली के सुल्तान इब्राहिम लोदी एवं बाबर के मध्य
  • बाबर ने पहली बार प्रसिद्ध ‘तुलगमा युद्ध नीति का तथा तोपों को सजाने में ‘उस्मानी विधि’ रूमी विधि का प्रयोग किया था।
  • तुलगमा पद्धति उजबेगों से ग्रहण की।
  • बाबर के तोपखाने का नेतृत्व उस्ताद अली और मुस्तफा खां नामक दो योग्य तुर्की अधिकारियों ने किया था।
  • भारत विजय के ही उपलक्ष्य में बाबर ने प्रत्येक काबुल निवासी को एक-एक चांदी के सिक्के उपहार में दिये। अपनी इसी उदारता के कारण उसे ‘कलन्दर’ की उपाधि दी गई।
  • पानीपत विजय के बाद बाबर ने कहा ‘काबुल की गरीबी अब फिर हमारे लिए नही।’
  • पानीपत के प्रथम युद्ध 21 अप्रैल 1526 में बाबर की विजय के मुख्य कारण - उसका तोपखाना एवं कुशल सेनापतित्व था।

खानवा का युद्ध 17 मार्च 1527 ई.


  • बाबर और राणा सांगा के बीच
  • बाबर और सांगा की महत्वाकांक्षाए ही इस युद्ध का प्रमुख कारण थी।
  • दोनों सेनाओं के मध्य 17 मार्च 1527 ई. को युद्ध आरम्भ
  • राणा सांगा के साथ मारवाड, आमेर, ग्वालियर, अजमेर, हसन खां मेवाती, महमूद लोदी, आलम खां लोदी तथा मेदिनीराय ने भाग लिया।

बाबर ने सैनिकों के उत्साह को बढाने के लिए
  • बाबर ने शराब पीने और बेचने पर प्रतिबंध की घोषणा की।
  • उसने मुसलमानों से ‘तमगा कर’ न लेने की घोषणा की। तमगा एक व्यापारिक कर था, जिसे राज्य द्वारा वसूला जाता था।
  • जिहाद का नारा दिया। जिहाद इस्लाम की रक्षा के लिए धर्मयुद्ध था।
  • खानवा के युद्ध विजय के बाद बाबर ने ‘गाजी’ की उपाधि धारण की। गाजी ‘योद्धा एवं धर्म प्रचारक दोनों’


चंदेरी का युद्ध

  • 29 जनवरी 1528 ई. को बाबर ने मेदिनी राजय को परास्त किया।
  • चंदेरी युद्ध के बाद बाबर ने राजपूताना के कटे हुये सिरों को मीनार बनवाई तथा जिहाद का नारा दिया। स्त्रियों ने जौहर किया।

घाघरा का युद्ध

  • 6 मई 1528 बाबर ने बंगाल एवं बिहार की संयुक्त सेना को परास्त किया। यह युद्ध जल एवं थल पर लडा गया।
  • साम्राज्य ऑक्सस से घाघरा एवं हिमालय से ग्वालियर तक पहुंच गया।
  • बंगाल शासक नुसरत शाह से संधि कर उसे संप्रभुता प्रदान की।
  • 26 दिसंबर 1530 ई. को बाबर की मृत्यु हो गई।

बाबर की उपलब्धियां


  • संभवतः बाबर कुषाणों के बाद पहला शासक था, जिसने काबुल, कंधार को अपने पूर्ण नियंत्रण में रखा।
  • बाबर ने सड़कों के माप के लिए 'गज-ए-बाबरी' का प्रयोग का शुभारम्भ किया।
  • उसने तुर्की भाषा में अपनी आत्मकथा ‘बाबरनामा’ की रचना की।
  • बाबर को ‘मुबइयान’ नामक पद्य शैली का जन्मदाता भी माना जाता है।
  • उसने ‘रिसाल-ए-उसज’ की रचना की जिसे ‘खत-ए-बाबरी’ भी कहा जाता है।
  • बाबर ने एक काव्य संग्रह ‘दीवान’ तुर्की का संकलन करवाया था।
  • सेना में तुलगमा युद्ध नीति में उत्तर ‘वाम’ व दक्षिण पक्ष के तुलगमा सैनिक युद्ध के समय शत्रु सेना पर पीछे से आक्रमण करते है।


  • उसे आगरा में ‘नूर अफगान’ आधुनिक आरामबाग बाग में दफनाया गया, परन्तु बाद में उसे काबुल में उसी के चुने गये स्थान पर दफनाया गया।


यह भी पढ़े -

मुगलकाल - अकबर

No comments:

Post a Comment

Loading...