Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Saturday, December 9, 2017

वैश्वीकरण से आप क्या समझते हैं? Vaishvikaran se aap kya samjhte hai



वैश्वीकरण से आप क्या समझते हैं? समझाइए।

वैश्वीकरण से आशय विश्व के विभिन्न समाजों और अर्थव्यवस्थाओं के एकीकरण से है। यह उत्पादों, विचारों, दृष्टिकोणों, विभिन्न सांस्कृतिक पहलुओं आदि के आपसी विनिमय के परिणाम से उत्पन्न विचार है। इसके कारण विश्व में विभिन्न लोगों, क्षेत्रों एवं देशों के मध्य अन्तःनिर्भरता में वृद्धि होती है। वहीं पश्चिमीकरण का आशय ऐसी प्रक्रिया से है, जिसके अंतर्गत समाज के विभिन्न पहलुओं यथा- भाषा, रहन-सहन, उद्योग, प्रौद्योगिकी, आर्थिक गतिविधि, राजनीति आदि में पश्चिमी विशेषताओं का समावेश होने लगता है।

वैश्वीकरण की प्रक्रियाः-

वैश्वीकरण कोई नई अवधारणा नहीं है, बल्कि यह एक प्राचीन अवधारणा है। इसका बीज पाश्चात्य पूंजीवाद व उपनिवेशवाद में देखा जा सकता है और जिसने अन्य देशों के संसाधनों पर नियंत्रण के रूप में अपनद प्रक्रिया को आगे बढ़ाया।
इससे पूर्व भी प्राचीन काल में प्रसिद्ध रेशम मार्ग द्वारा भी भारतीय उपमहाद्वीप समेत चीन, फारस, यूरोप और अरब देशों के साथ व्यापार-वाणिज्य के माध्यम से सभ्यताओं के बीच अंतर्क्रिया बढ़ी।
समय के साथ विभिन्न धर्मों जैसे- इस्लाम, बौद्ध और हिन्दू धर्म का यूरोप व अफ्रीका के देशों में प्रचार-प्रसार भी वैश्वीकरण का उदाहरण है।
ब्रिटेन या अन्य यूरोपीय देशों द्वारा उपनिवेशों में प्रचलित संस्कृति, भाषा, दर्शन आदि को अपने देशों में पहुंचाया गया, जिससे वैश्वीकरण को बढ़ावा मिला। इस संदर्भ मे ंऔद्योगिकरण के पूर्व पश्चिमी देशों में भारतीय सूती वस्त्रों की व्यापक मांग को देखा जा सकता है।

वैश्वीकरण और पश्चिमीकरणः-

हाल ही में वैश्वीकरण को पश्चिमीकरण के पर्याय के रूप मंे देखा जा रहा है। इस अवधारणा का आधार यह है कि वैश्वीकरण एक आधुनिक परिघटना है। वर्तमान में सूचना क्रांति के प्रसार, विभिन्न देशों में बहुराष्ट्रीय कंपनियों की स्थापना और पश्चिम की प्रभाविता से संचालित अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के माध्यम से वैश्वीकरण की प्रक्रिया पश्चिम से निर्गत हुई प्रतीत होती है। इसके अतिरक्ति गैर-पश्चिमी देशों में भी पश्चिमी संस्कृति व जीवन शैली को लेकर स्वीकार्यता बढ़ी है। किंतु यह भी सत्य है कि पूर्व के देशों की संस्कृतियों का प्रसार पश्चिम सहित दुनिया के अन्य देशों में भी हुआ है।
इस तरह यह कहा जा सकता है कि पश्चिमीकरण एक द्विमार्गी प्रक्रिया है और पश्चिमीकरण वैश्वीकरण के कई घटकों में से एक है।

No comments:

Post a Comment

Loading...