न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें

न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें
9.71 करोड़ में बिका यह कबूतर, आखिर क्या खूबी है इसकी

Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Wednesday, September 13, 2017

रेने देकार्त


  •  (1596-1650)
  • जन्मः फ्रांस के तुरेन में,
  • मृत्युः स्वीडन
  • आधुनिक दर्शन का जनक
  • बुद्धिवाद का जनक
  • दर्शन प्रेमी गणितज्ञ/ वैज्ञानिक प्रणाली को जन्म दिया।

देकार्त की रचनाएं


  • डायरेक्शन ऑफ माइन्ड
  • डिस्कोर्स ऑन मेथड़स
  • ले मोडे
  • मेडिटेशन ऑफ फस्ट फिलॉसफी

बुद्धिवाद
  • वह दर्शन जो बुद्धि को जगत् का आधार मानता है। समस्त ज्ञान बुद्धि द्वारा ज्ञात है। बुद्धि में निहित जन्मजात प्रत्ययों के निगमन द्वारा समस्त ज्ञान का विकास होता है।
  • देकार्त एक गणितज्ञ थे उनका उद्देश्य दर्शन में गणित के समान निश्चितता, सार्वभौतिकता, असंदिग्धता, स्पष्टता का विकास करना था।
  • देकार्त के अनुसार ज्ञान वही हैं जो स्पष्ट व असंदिग्ध है।
  • देकार्त की दार्शनिक प्रणाली को गणितीय प्रणाली भी कहते है।
  • 2+2 = 4 को कोई संदेह की दृष्टि से नहीं देख सकता।
  • प्रणाली विमर्श में देकार्त ने बुद्धि का विश्लेषण करते हुए दो मुख्य सिद्धांतों का प्रतिपादन किया-
  • क. बुद्धि में यथार्थ ज्ञान प्राप्त करने का सामर्थ्य है।
  • ख. बुद्धि में यथार्थ-अयथार्थ ज्ञान को पृथक करने का भी सामर्थ्य है।
  • देकार्त बुद्धिवादी हैं, इनके अनुसार बुद्धि ही यथार्थ ज्ञान की जननी है। यह यथार्थ ज्ञान सार्वभौम, सुनिश्चित और अनिवार्य है। यही ज्ञान का स्वरूप् है। ज्ञान का आदर्श गणित-शास्त्र है।

यथार्थ ज्ञान की प्राप्ति के दो साधन है-
सहज ज्ञान और निगमन
  • क. सहजज्ञान/ अन्तर्बोध-
  • यह स्वयंसिद्ध सद्यः ज्ञान है। यह पूर्णतः सुस्पष्ट तथा सुभिन्न होता है। यह इन्द्रियों द्वारा प्राप्त नहीं होता। यह मौलिक ज्ञान है।
  • ख. निगमन
  • यह अनुमान जन्य ज्ञान है।
  • देकार्त के अनुसार आधार तो सहज ज्ञान है, परंतु निष्कर्ष निगमनात्मक है।

संदेहवाद

  • देकार्त की प्रसिद्ध कृति मेडिटेशन्स सर्वप्रथम संशयवाद से प्रारंभ होती है।
  • संदेह ही सत्य की प्राप्ति का साधन, मार्ग या उपाय है। संदेह के बिना सत्य का ज्ञान संभव नहीं। यही संदेह विधि है। उन्हें इस प्रणाली का पिता मानते है।
  • सत्य साध्य हैं तथा संदेह साधन है।
  • संत ऑगस्टाइन - ज्ञान के लिये विश्वास की आवश्यकता
  • देकार्त - विश्वास के लिये ज्ञान की आवश्यकता है।
  • देकार्त के समान ही ह्यूम का दर्शन संदेह से प्रारंभ होता है।
  • देकार्त के दर्शन में संदेह केवल साधन हैं, परंतु ह्यूम के दर्शन में संदेह साधन और साध्य दोनों है। इसलिए ह्यूम निश्चित रूप से संदेहवादी है।

आत्मा का अस्तित्व

  • ‘मैं सोचता हूं’ इसलिए मैं हूं यह सुनिश्चित तथा सुस्पष्ट सत्य है।
  • मैं संदेह कर रहा हूं अतः मेरी सत्ता निश्चित रूप से है।
  • देकार्त ने संदेह क्रिया से ही संदेहकर्ता की सत्ता को स्वतः सिद्ध माना है। तात्पर्य यह है कि आत्मा की सत्ता ज्ञान की पूर्वमान्यता है।

आत्मा का स्वरूप
  • मैं सोचता हूं, इसीलिये मेरी (आत्मा) की सत्ता स्वयं सिद्ध है। यह अनुमान नहीं, वरन् प्रत्यक्ष अनुभूति है।
  • मैं- का अर्थ मेरी (आत्मा की) सत्ता चिंतन पर निर्भर है।
  • मैं- से स्पष्ट सिद्ध हैं कि मानसिक क्रिया आत्मा के अस्तित्व पर ही निर्भर है।
  • मैं सोचता हूं इसलिये मैं हूं अर्थात् ज्ञान होने क कारण आत्मा ही सत्ता का स्वतः सिद्ध है, इससे स्पष्ट पता चलता हैं कि ज्ञान-आत्मा का गुण है अर्थात् आत्मा का धर्म है।
  • ज्ञान तथा आत्मा में गुण-गुणी, धर्म-धर्मी का संबंध है।
  • मैं सोचता है इसलिये मैं हूं यह सर्वप्रथम असंदिग्ध निश्चयात्मक ज्ञान है।

ईश्वर-विचार

  • विचार का स्पष्ट तथा स्वयं सिद्ध होन ही सत्य का मापदण्ड है।
  • सर्वप्रथम आत्म तत्व की सत्ता को संदेहातीत स्वयं सिद्ध माना है।
  • जो वस्तु आत्म तत्व के समान निस्संदेह, स्वयं सिद्ध हो वही सत्य हैं।
  • नैसर्गिक विचार जन्मजात प्रत्यय है जिन्हें मनुष्य बाह्य संसार से नहीं प्राप्त करता।
  • आकस्मिक विचार बाह्य संसार से जन्य होते है तथा काल्पनिक विचार शुद्ध कल्पना प्रसूत है। ईश्वर विचार नैसर्गिक या जन्मजात है।
  • देकार्त ईश्वर की सत्ता सिद्ध करने के लिये अग्रलिखित प्रमाण देते है-
  • कार्य-कारण मूलक तर्क
  • सत्तामूलक तर्क
  • सृष्टि मूलक
  • निगमनात्मक तर्क
  • द्रव्य विचार
  • देकार्त के अनुसार स्वतंत्रता ही ततव का लक्षण है।
  • तात्पर्य यह हैं कि तत्व वह हैं जिसका अस्तित्व किसी दूसरे पर आधारित न हो।
  • द्रव्य
  • निरपेक्ष (ईश्वर) और सापेक्ष (चित् और अचित्)
  • तत्व संख्या - 3
  • ईश्वर, चित् और अचित्
  • सापेक्ष का अर्थ ईश्वरापेक्ष हैं, अर्थात् चित् और अचित् का अस्तित्व ईश्वर पर आधारित है।
  • चित् का गुण विचार है तथा अचित् का गुण विस्तार है। ये विरोधी गुण है।
  • मन और शरीर
  • मन का गुण है विचार और शरीर का गुण विस्तार है।
  • द्वैतवाद
  • जड़ और चेतना दोनों विरोधी है। अतः इनमें कोई पारस्परिक संबंध संभव नहीं।
  • इसका उत्तर देकार्त अपने चिदचित् संयोगवाद सिद्धांत के द्वारा देते है।
  • यही देकार्त का अन्तर्क्रियावाद या क्रिया-प्रतिक्रियावाद का सिद्धांत कहलाता है।
  • इस सिद्धांत के अनुसार आत्मा और शरीर में पीनियल ग्रंथि के द्वारा क्रिया-प्रतिक्रिया होती है।
  • शरीर की क्रिया से आत्मा में प्रतिक्रिया होती है। जिसके फलस्वरूप आत्मा को बाह्य जगत का ज्ञान प्राप्त होता है।
  • इसी प्रकार आत्मा की क्रिया से शरीर में प्रतिक्रिया उत्पन्न होती है जिसके फलस्वरूप शरीर में विचार के अनुकूल व्यवहार होने लगता है।
  • पिनियल ग्रन्थि मन और शरीर का मिलन बिंदु है।
  • देकार्त को उग्र द्वैतवादी कहा जाता है।
  • चेतन और अचेतन, मन और शरीर, भौतिक और आध्यात्मिक का विरोध ही द्वैतवाद का आधार है।
  • गुणों में द्वैत है- गुण दो है क. मूलगुण- आकृति, विस्तार
  • ख. उपगुण- रूप, रस
  • इनका द्वैतवाद स्पिनोजा के दर्शन में अद्वैतवाद बन गया तथा इनका अंतर्क्रियावाद समानांतर वाद में बदल गया।
  • देकार्त सर्वप्रथम दार्शनिक है जिनका दृष्टिकोण वैज्ञानिक है। देकार्त दार्शनिक महल को वैज्ञानिक नींव पर खड़ा करना चाहते है।
  • ईश्वर का प्रत्यय सार्थक तथा जन्मजात प्रत्यय होता है। जिसे ‘आजानिक प्रत्यय’ भी कहते है। देकार्त ने ईश्वर को ‘जगत’ का ‘निमित्त’ कारण माना है।
  • देकार्त का ईश्वरवादी सिद्धांत ‘केवलीश्वरवाद’ भी कहा जाता है अर्थात् ईश्वर जगत् का निर्माण कर इससे परे रहता है।
देकार्त का बुद्धिवाद
  • देकार्त का ज्ञान-सिद्धांत पूर्णतः बुद्धिवादी है।
  • दर्शन की विधिः
  • लक्षण सूत्र- जब तक किसी बात को स्पष्टतः तथा असंदिग्धतः न जान लिया जाए तब तक उसे स्वीकार नहीं करना चाहिए। इसी सूत्र के कारण देकार्त की विधि को संशय विधि कहा जाता है।
  • विश्लेषण सूत्र - हमें अपनी समस्या को सरलतम भागोें में विभाजित कर लेना चाहिए।
  • संश्लेषण सूत्र - सरलतम से जटिल की ओर लौटना
  • समाहार सूत्र - परिगणना को इतना पूर्ण बना लेना कि किसी भी हिस्से के छूट जाने की गुंजाइश न रहे।
  • संदेह करना, सोचना आदि आंतरिक क्रियाएं है जिसका कर्ता अनिवार्य है। यहीं कर्ता आत्मा है।


No comments:

Post a Comment

भारत ने किया 'RISAT-2B' उपग्रह का सफल प्रक्षेपण

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने एक ओर कामयाबी 22 मई को तब दर्ज की, जब उसने हर मौसम में काम करने वाले रडार इमेजिंग निगरा...

Loading...