न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें

न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें
कान फिल्म फेस्टिवल में दिखा नायिकाओं के हुस्न के जलवे

Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Wednesday, September 13, 2017

Hadappa Sabhyata हड़प्पा सभ्यता


हड़प्पा पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में स्थित मॉन्टगोमरी जिले में रावी नदी के बांये तट पर स्थित है।
हड़प्पा के टीले के विषय में सर्वप्रथम जानकारी 1826 ई. में चार्ल्स मेसन ने दी थी।
1921 ई. में दयाराम साहनी के नेतृत्व में (1926 में माधोस्वरूप वत्स) इसकी खुदाई की गई।
1946 में मार्टीमर ह्वीलर ने व्यापक स्तर पर उत्खनन करवाया।
हड़प्पा से प्राप्त दो टीलों में पूर्वी टीेले को नगर टीला तथा पश्चिमी टीले को दुर्ग टीला कहते है।
यहां पर छः-छः की दो पंक्तियों में निर्मित कुल 12 कक्षों वाले एक अन्नागार का अवशेष प्राप्त हुए हैं।
सामान्य आवास क्षेत्र के दक्षिण में एक कब्रिस्तान स्थित है, जिसे समाधि आर-37 नाम दिया गया है। समाधि-एच भी मिली है।
यहां पर खुदाई से कुल 57 शवाधान पाए गए हैं। शव प्रायः उत्तर -दक्षिण दिशा में दफनाए जाते थे जिनमें सिर उत्तर की ओर होता था।
12 शवाधानों से कांस्य दर्पण भी पाए गये हैं। लकड़ी का ताबूत भी मिला है।
हड़प्पा के ‘एफ’ टीले में पकी हुई ईंटों से निर्मित 18 वृत्तकार चबूतरे मिले है। हर चबूतरे पर ओखली लगाने के लिए छेद था।
इन चबूतरों के छेदों से राख जले हुए गेहूं तथा जौ के दाने एवं भूसा के तिनके मिले हैं।
मार्टीमर व्हीलर का अनुमान है कि इन चबूतरों का उपयोग अनाज पीसने के लिए किया जाता रहा होगा।
श्रमिक आवास के रूप में विकसित 15 मकानों की दो पंक्तियां मिली है जिनमें उत्तरी पंक्ति में सात एवं दक्षिणी पंक्ति में 8 मकानों के अवशेष प्राप्त हुए है। आकार 17 वाई 7.5 मीटर
प्रत्येक गृह में कमरे तथा आंगन होते थे। इनमें मोहनजोदडों के घरों की तरह कुंए नहीं मिले है।
सिंधु सभ्यता में अभिलेख युक्त मुहरें सर्वाधिक हड़प्पा से मिले है।
हड़प्पा में मोहनजोदड़ों के विपरीत पुरूष मूर्तियां, नारी मूर्तियों की तुलना में अधिक है।
नगर की रक्षा के लिए पश्चिम की ओर स्थित दुर्ग टीले को ह्वीलर ने माउण्ट ए-बी की संज्ञा प्रदान की है।
हड़प्पा में अन्नागार गढ़ी से बाहर मिला है, वही मोहनजोदडों में यह गढ़ी के अन्दर है।

कुछ महत्वपूर्ण अवशेष -

- तांबे का पैमाना मिला है।
- एक बर्तन पर मछुआरे का चित्र बना है।
- शंख का बना बैल, पीतल का बना इक्का
- स्त्री के गर्भ से निकला हुआ पौधा
- ईंटों के वृत्ताकार चबूतरे, गेहूं तथा जौ के दानों के अवशेष भी मिले है।

No comments:

Post a Comment

गुप्त साम्राज्य: आर्थिक स्थिति, कला, साहित्य एवं विज्ञान

240 ई से 550 ई. तक गुप्त साम्राज्य का उदय तीसरी शताब्दी के अन्त में हुआ था। विष्णु पुराण, वायु पुराण और भागवत पुराण से ज्ञात होता है ...

Loading...