न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें

न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें
9.71 करोड़ में बिका यह कबूतर, आखिर क्या खूबी है इसकी

Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Friday, September 1, 2017

क्रिया


  • क्रिया शब्द का शाब्दिक अर्थ- करना या होना अर्थात् जिन शब्दों से किसी कार्य के करने या होने का बोध होता हैं उन्हें हम क्रिया कहते हैं।
  • क्रिया के दो भेद हैं- (1) अकर्मक और (2) सकर्मक

(1) अकर्मक क्रिया -

  • जब वाक्य में कर्म नहीं होता तो वहां अकर्मक क्रिया होती है।
  • जैसे- रोना, सोना, जागना, उठना, उड़ना, नाचना, दौड़ना, कूदना, मुस्कराना, हंसना....
  • उपर्युक्त क्रियाएं सदैव अकर्मक होती है।
  • नोटः क्या - प्रधान कर्म (निर्जीव) हमेशा
  • किसे/किसको - गौण कर्म (सजीव)
  • अकर्मक क्रिया के दो भेद हैंः पूर्ण और अपूर्ण

(अ) पूर्ण अकर्मक क्रिया- 

  • इस प्रकार के वाक्यों में कर्म होता भी नहीं है और कर्म के होने का कोई भ्रम भी नहीं होता।
  • जैसे- कुत्ता भौंक रहा है।
  •       वह हंसती है। 
  •       वह नाचती है।
  •       मोर नाचते हैं।
  •       पक्षी उड़ते हैं।

(ब) अपूर्ण अकर्मक क्रिया-

  • इस प्रकार के वाक्यों में कर्म तो नहीं होता लेकिन कर्म होने के जैसा भ्रम होता है।
  • बंदर पेड़ पर बैठा है।
  • रानी तालाब में तैर रही है। यहां क्या नहीं 
  • बालक गेंद से खेलता है।
  • शेर जंगल में रहता है।

(2) सकर्मक क्रिया 

  • जब वाक्य में क्रिया के साथ कर्म होता है, तो वहां क्रिया सकर्मक होती हैं।
  • सकर्मक क्रिया के दो भेद हैः (अ) एक कर्मक और (2) द्विकर्मक 
  • नोट- जब वाक्य में एक कर्म होता है तो वह क्रिया एक कर्मक होती है, जहां वाक्य में द्विकर्म होते हैं तो क्रिया द्विकर्मक क्रिया कहलाती है।
  • राखी राबडी खाती है। यहां क्या? राबडी
  • रमा पत्र लिखती है।
  • राधा गाय को चारा खिलाती है। 
  • इस वाक्य में क्या खिलाती है- चारा (निर्जीव) औ किसकों - गाय को (गौण कर्म) है
  • बच्चे गाना गाते है।
  • सरिता साइकिल चलाती है।
  • 2. कन्हैया बीमार दादाजी को दवा खिलाता है।
  •  राजा गरीबों को वस्त्र देता है।
  •  वह गांव को जाते हुए तृण स्पर्श करता है।

पूर्वकालिक क्रिया 

  • जब मुख्य क्रिया से पूर्व एक ओर क्रिया समाप्त होती है, तो वहां पहले समाप्त होने वाली क्रिया पूर्वकालिक क्रिया कहलाती है।
  • पूर्वकालिक क्रिया के अन्त में कर या करके जुड़ा रहता है।
  • जैसे- वह खाना खाकर विद्यालय जाता है।
  •  मैं आकर पढ़ाने लग गया।
  •  कृष्ण को देखकर (पूर्व क्रिया) राधा मुस्कराने लगी (मुख्य क्रिया)

प्रेरणार्थक क्रिया

  • जब कर्त्ता किसी कार्य को स्वयं न करके किसी अन्य से करवाता है तो क्रिया प्रेरणार्थक क्रिया है।
  • अध्यापक छात्रों से वाक्य लिखवाता है।
  • माता बेटी से खाना पकवाती है।
  • मोहन नाई से बाल कटवाता है।

No comments:

Post a Comment

कॉम्पिटीशन हेराल्ड क्विज में भाग लीजिए और जीतिए एक पुस्तक फ्री उपहार में

कॉम्पिटीशन हेराल्ड द्वारा अब हर हफ्ते फेसबुक के माध्यम से एक प्रतियोगी परीक्षा करवायी जाएगी। जिसमें पांच या अधिक प्रश्न होंगे। आपको सभी...

Loading...