न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें

न्यूज़ पढ़ने के लिए क्लिक करें
9.71 करोड़ में बिका यह कबूतर, आखिर क्या खूबी है इसकी

Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Tuesday, July 25, 2017

राजस्थान का एकीकरण

राजस्थान का एकीकरण

राजस्थान के एकीकरण के समय कुल 19 रियासतें 3 ठिकाने- लावा(जयपुर), कुशलगढ़ (बांसवाड़ा) व नीमराना (अलवर) तथा एक चीफशिफ अजमेर-मेरवाड़ा थे।

प्रथम चरण - मत्स्य संघ 18 मार्च, 1948


अलवर, भरतपुर, धौलपुर, करौली और नीमराणा (अलवर) ठिकाना को मिलाकर मत्स्य संघ का निर्माण 

उद्धघाटन - केंद्रीय मंत्री एन. वी. गाडगिल (नरहरि विष्णु गाॅडविल) द्वारा 
राजप्रमुख - धौलपुर महाराजा उदयभान सिंह 
उपराजप्रमुख - गणेशपाल करौली 
प्रधानमंत्री - श्री शोभाराम कुमावत 
राजधानी - अलवर 

मत्स्य संघ नाम श्री के.एम्.मुंशी ने सुझाया 
25 मार्च, 1948 को कोटा, बूंदी, झालावाड़, टोंक, डूंगरपुर, बांसवाड़ा, प्रतापगढ़, किशनगढ़ व शाहपुरा का विलय होकर राजस्थान संघ बना।

दूसरा चरण

राजस्थान संघ (25 मार्च 1948)


डुंगरपुर, बांसवाडा, प्रतापगढ़, शाहपुरा, किशनगढ़, टोंक, बूंदी, कोटा, झालावाड़ आदि 9 रियासत और एक कुशलगढ़ (बांसवाड़ा) ठिकाना को मिलाकर 
उद्घाटन कर्ता - एन. वी. गाॅडविल 
राजधानी- कोटा
राजप्रमुख- भीमसिंह (कोटा)
उपराज प्रमुख- बूंदी महाराजा बहादुरसिंह, महारावल लक्ष्मणसिंह 
प्रधानमंत्री- गोकुल लाल असावा (शाहपुरा)

बाँसवाड़ा महारावल चंद्रवीर सिंह ने विलयपत्र पर हस्ताक्षर करते हुए कहा "मैं अपने डेथ वारंट पर हस्ताक्षर कर  रहा हूँ। "


तीसरा चरण


संयुक्त राजस्थान (18 अप्रैल, 1948)

राजस्थान संघ + उदयपुर

उद्घाटन कर्ता- पं. जवाहरलाल नेहरू

राजधानी - उदयपुर

राजप्रमुख - भूपालसिंह (उदयपुर)

भोपालसिंग एकमात्र राजा एकीकरण के समय अपाहिज व्यक्ति था।

उपराजप्रमुख - भीमसिंह (कोटा)

प्रधानमंत्री - माणिक्यलाल वर्मा


चौथा चरण

वृहद राजस्थान (30 मार्च, 1949)

संयुक्त राजस्थान + जयपुर + जोधपुर + जैसलमेर + बीकानेर
इस चरण में संयुक्त राजस्थान में जयपुर, जोधपुर, जैसलमेर और बीकानेर का विलय किया
इसका उद्घाटन सरदार वल्लभ भाई पटेल ने किया

राजधानी- जयपुर

श्री पी. सत्यनारायण राव समिति की सिफारिश पर।

महाराज प्रमुख- भूपाल सिंह

राजप्रमुख- मान सिंह द्वितीय (जयपुर)

उपराजप्रमुख- भीमसिंह

प्रधानमंत्री- हीरालाल शास्त्री

30 मार्च को राजस्थान दिवस के रूप में  मनाया जाने का निर्णय

इस चरण में 5 विभाग स्थापित किये गये जो निम्न है।

1.  शिक्षा विभाग- बीकानेर

2.  न्याय विभाग- जोधपुर

3. वन विभाग- कोटा

4.  कृषि विभाग- भरतपुर

5.  खनिज और कस्टम व एक्साइज विभाग- उदयपुर


पांचवा चरण

संयुक्त वृहद् राजस्थान (15 मई, 1949)

संयुक्त वृहद् राजस्थान - वृहद राजस्थान + सत्स्य संघ
सिफारिश- शंकरादेव समिति की सिफारिश पर मत्स्य संघ को वृहद राजस्थान में मिलाया गया।
राजधानी- जयपुर
महाराज प्रमुख- मानसिंह द्वितीय
प्रधानमंत्री- हीरालाल शास्त्री
उद्घाटन - सरदार वल्लभभाई पटेल

  • क्षेत्रफल की दृष्टी से सबसे बड़ी रियासत – जोधपुर
  • क्षेत्रफल की दृष्टी से सबसे छोटी रियासत – शाहपुरा
  • जनसंख्या की दृष्टी से सबसे बड़ी रियासत – जयपुर
  • जनसंख्या की दृष्टी से सबसे छोटी रियासत – शाहपुरा
  • सबसे प्राचीन रियासत – मेवाड़ (उदयपुर)
  • सबसे नवीन और अंतिम रियासत – झालावाड़ (एक मात्र अंग्रेजो द्वारा निर्मित रियासत)
  • एक मात्र मुस्लिम रियासत – टोंक
  • जाटों की रियासत – भरतपुर और धोलपुर(अन्य रियासतें राजपूतों की थी )
  • एकीकरण के अन्त में शामिल होने वाली रियासत – सिरोही
  • वर्तमान राजस्थान का स्वरूप 1 नवम्बर 1956 को अस्तित्व में आया |
    राजस्थान के गठन के पश्चात हीरा लाल शास्त्री राजस्थान के प्रथम मुख्यमंत्री बने |
    राज्य की 160 सदस्य प्रथम विधान सभा का गठन 29 फरवरी 1952 को हुआ |
     टीकाराम पालीवाल राज्य के प्रथम निर्वाचित लोकतांत्रिक सरकार के मुख्यमंत्री बने |
    नरोतम लाल जोशी को विधानसभा का प्रथम अध्यक्ष चुना गया |
    अजमेर-मेरवाड़ा सी श्रेणी का राज्य था जिसकी अलग विधानसभा धार सभा थी तथा हरिभाऊ उपाध्याय वहाँ के मुख्यमंत्री थे |
     नवगठित राजस्थान में 25 जिले बनाए गये जिन्हें पाँच संभागो (जयपुर, जोधपुर, उदयपुर, बीकानेर व कोटा) में विभाजित किया गया |
     1 नवम्बर 1956 को फलज अली की अध्यक्षता में राज्य का पुनर्गठन किया गया और अजमेर-मेरवाड़ा क्षेत्र भी राजस्थान में मिला दिया गया |
     अजमेर राज्य का 26 वाँ जिला बना व जयपुर संभाग का नाम बदल कर अजमेर संभाग कर दिया गया |
    1 नवम्बर 1956 को सरदार गुरुमुख निहालसिंह को राज्य का प्रथम राज्यपाल नियुक्त किया गया |
     अप्रेल 1962 में संभागीय व्यवस्था समाप्त कर दी गयी |
    15 अप्रेल 1962 को धौलपुर राज्य का 27 वाँ जिला बनाया गया |
    26 जनवरी 1987 को हरिदेव जोशी की सरकार ने राज्य को 6 संभागों जयपुर, अजमेर, जोधपुर, उदयपुर, कोटा, बीकानेर में बाँट कर संभागीय व्यस्था पुन: शुरू की |
    10 अप्रेल 1991 को बारां, दौसा और राजसमंद जिले बनाए गये |
    12 अप्रेल 1994 को हनुमानगढ़ 31वाँ जिला बना |
    19 जुलाई 1997 को करौली 32वाँ जिला बना |
    26 जनवरी 2008 को परमेशचंद कमेटी की सिफारिश पर प्रतापगढ़ 33वाँ जिला बना|
    राज्य के सातवें संभाग के रूप में भरतपुर संभाग के निर्माण के अधिसूचना 4 जून 2005 को जारी की गई जिसमे करौली व सवाईमाधोपुरम, कोटा संभाग से व भरतपुर व धौलपुर जयपुर संभाग से शामिल किये गये |

No comments:

Post a Comment

भारत ने किया 'RISAT-2B' उपग्रह का सफल प्रक्षेपण

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने एक ओर कामयाबी 22 मई को तब दर्ज की, जब उसने हर मौसम में काम करने वाले रडार इमेजिंग निगरा...

Loading...