Competition Herald आज ही Online खरीदे 50% डिस्काउंट पर

Saturday, July 29, 2017

कमलांग वन्यजीव अभयारण्य अरुणाचल प्रदेश का 50वां और राज्य का तीसरा बाघ अभयारण्य



कमलांग वन्यजीव अभयारण्य अरुणाचल प्रदेश के लोहित जिले के दक्षिण-पूर्वी भाग में स्थित है, जिसे वर्ष 1989 में स्थापित किया था। इस अभयारण्य का नामकरण इसमें होकर प्रवाहित होने वाली कमलांग नदी के नाम पर रखा गया। भारत सरकार की प्रोजेक्ट टाइगर योजना के अंतर्गत 6 सितंबर, 2016 को अरुणाचल प्रदेष सरकार ने एक अधिसूचना जारी कर कमलांग वन्यजीव अभयारण्य को ‘बाघ अभयारण्य’ का दर्जा प्रदान कर दिया। यह भारत का 50वां और राज्य का तीसरा बाघ अभयारण्य है। अरुणाचल प्रदेष में नमदाफा और पक्के बाघ अभयारण्य पहले से स्थित है।
इस अभयारण्य मे बाघ, हाथी, तेंदुआ, होलॉक गिबन, हिरन, हॉर्नबिल तथा उड़न गिलहरी
¼Flying Squirrels½ आदि पशुओं की प्रजातियां पाई जाती है।
क्षेत्रफलः 783 वर्ग किमी जिसमें से कोर क्षेत्र 671 वर्ग किमी., बफर क्षेत्र 112 वर्ग किमी. है।

No comments:

Post a Comment

Loading...